वासुदेव श्री कृष्ण ने अपने सम्पूर्ण जीवन काल में अनेको एवम अद्भुत लीलाये रची, महाभारत के भीषण युद्ध में बगैर अश्त्र एवम शस्त्र उठाये उन्होंने पांडवो को जीत दिला दी. भगवान श्री कृष्ण के अनेको लीलाओ में से एक बहूत अजीब लीला उन्होंने महाभारत युद्ध के दौरान रची.

महाभारत युद्ध के प्रत्येक दिन भगवान श्री कृष्ण मूंगफली खाते तथा फिर युद्ध की औऱ प्रस्थान करते. ये उनका दैनिक नियम बन चुका था की जैसे ही युद्ध प्रारम्भ होता उससे पहले वह कुछ मूंगफलियां अपने मुह में डाल लेते.

वास्तव में भगवान श्री कृष्ण के मूंगफली खाने के पीछे एक गहरा रहस्य छुपा हुआ था जिसे सिर्फ एक ही व्यक्ति जानता था औऱ वह थे उडुपी राज्य के राजा.

इस अनोखे रहस्य के पीछे कथा है की जब महाभारत का युद्ध पांडवो औऱ कौरवो के बीच छिड़ा तो दोनों पक्षो ने देश विदेश के राजाओ को युद्ध में उनकी तरफ से सम्मलित होने के लिए सन्देश भेजा.

सूचना मिलते है अनेको राजा युद्ध में सम्मलित हुए कुछ पांडवो के पक्ष से लड़े तो कुछ कौरवो के पक्ष से परन्तु उन अनेको राजाओ में से एक राजा ऐसे भी थे जो किसी के पक्ष से न लड़ते हुए भी युद्ध में सम्मलित हुए.

Loading...
loading...
Loading...