शाश्त्रो के अनुसार घर को मंदिर की तरह पवित्र मन जाता है सुख और शांति की कामनाएं तो हर व्यक्ति करता है मगर घर में किन्ही कारणों की वजह से गृह क्लेश और घर के सदस्यो के मन में द्वेष की भावना उत्पन्न होने लगती है | घर सिर्फ सुन्दर सजाने से और घर की दीवारों पर पेंटिंग्स लगने से बेशकीमती सामान लगाने से नही बनता घर बनता है घर के लोगो से उनकी ख़ुशी से |

आमतौर पर सुख सम्रद्धि और खुशियो से भरा हुआ घर बनाने के लिए शांति तथा पैसा दोनों की ही जरुरत पड़ती है परन्तु किसी के पास पैसा है तो शांति और सुख नहीं है. किसी के पास सुख शांति है तो पैसा नहीं है हर व्यक्ति किसी ना किसी समस्या से परेशान है. इसीलिये हमें कुछ ऐसे उपाय करने चाहिए जिनको प्रयोग में लाने से जीवन में आपको कभी धन और सुख समृद्धि की कमी ना हों और घर में हमेशा शांति का माहौल बना रहें.

*रात को सोने से पहले हमे अपने घर के रसोई घर में एक बाल्टी पानी भरकर रखनी चाहिए जिससे सभी कर्ज़ों से छुटकारा मिलता है और साथ साथ अथरूम में एक बाल्टी पानी भरकर रख देना चाहिए जिससे उन्नति के मार्ग में रुकावट नहीं आती |

*रोजाना प्रातःकाल घर में भजन जरूर लगाए इससे घर में सुख शांति बानी रहती है और मन को भी सुकून मिलता है |

*कभी भी आप अपने घर की देवरो पर घडी लगाए तो ये जरूर याद रखे कि दिशा उत्तर- पूर्व ही होनी चाहिए | उत्तर पूर्व दिशा में घडी लगाने से समय अच्छा बीतता है |

*भोजन कक्ष को हमेशा उत्तर पश्चिम में बनाएं इससे स्वास्थ्य ठीक रहता है तथा किसी प्रकार की बीमारी नहीं होती|

*घर में बैठक का कमरा उत्तर पूर्व या उत्तर पश्चिम दिशा में बनना चाहिए. इससे सुख और समृद्धि में वृद्धि होती है.|

* जब भी आप घर बनवाये तो ये हमेशा याद रखे की टॉयलेट और बाथरूम दक्षिण और पश्चिम दिशा में ही हो ऐसा करने से बहुत लाभ मिलता है |

*पूजा पाठ का स्थान हमेशा ईशानकोण यानि उत्तर और पूर्व का कोना जहां मिलता है में ही बनाना चाहिए. इससे मान-सामान में बढ़ोत्तरी होती है|

*घर को हमेशा साफ रखे घर में कभी जाले न लगने दे इससे घर में अशांति पैदा होती है |

*रोजाना रोटी बनाने के बाद सबसे पहले 1 रोटी गाय के लिए रखें. इससे देवता भी खुश होते हैं और पितरों को भी शांति मिलती है.

*अपनी तिजोरी को हमेशा पूर्व उत्तर व दक्षिण में ही रखें. इससे तिजोरी भरी रहती है तथा पैसे की कमी नहीं होती|

*जब भी आप घर में पोछा लगाते हैं तो हफ्ते में एक बार समुद्री नमक अथवा सेंधा नमक से लगाए. इससे नकारात्मक ऊर्जा हटने लगती है|

*घर को साफ़ रखे और नियमित रूप से रोजाना घर में झाड़ू पोंछा लगाए इससे घर से दरिद्रता दूर होती है |

*रात को खाना खाने के बाद जूठे बर्तन ना रखें. इससे घर सुख सम्रद्धि तथा बरकत नहीं आती है. हमेशा बर्तनों को भोजन कि तुरंत बाद ही साफ करके ही रखें |

*आप अपनी सुबह की पूजा का समय प्रातः 6 से 8 बजे के बीच में ही करे तथा भूमि पर आसन बिछा कर पूर्व या उत्तर की ओर मुंह करके पूजा करे. इससे घर में सुख तथा शांति बनी रहती है|

*घर में तुलसी का पौधा जरूर होना चाहिए तथा जिस गमले में तुलसी का पौधा हो उसमे कोई दूसरा पौधा ना लगाए. तुलसो को हमेशा घर के पूर्व या उत्तर दिशा में ही लगाए.

*रात को सोते समय हमेशा दक्षिण या पूर्व दिशा की ओर सिर कर के सोएं. पूर्व की ओर सिर करने से विद्या की प्राप्ति होती है तथा दक्षिण की ओर सिर करके सोने से आयु तथा धन में बढ़ोतरी होती है.

*घर में जूते चप्पलो को सम्भालकर रखें. इधर-उधर बिखेर कर या उल्टे सीधे करके नहीं रखने चाहिए. इससे घर में अशांति होने लगती है|

* कभी भी अपने घर के मुख्य दरवाजे के पास कूड़ेदान नहीं रखना चाहिए. ऐसा करने से पडोसी शत्रु बन सकते हैं|

<!–nextpage–>

*सूर्यास्त होते समय यदि कोई पडोसी अथवा कोई अन्य व्यक्ति दूध,दही या प्याज मांगे तो उसे ये सब वस्तुएं ना दें. इससे घर की बरकत समाप्त हो जाती है |

*झाड़ू को घर में कभी भी खड़ा कर के ना रखें. ना ही झाड़ू में पैर लगाए तथा झाड़ू के ऊपर से ना गुजरे. ऐसा करने से घर की बरकत नहीं होती|

*कभी भी बिस्तर पर बैठ कर कभी खाना नहीं खाना चाहिए. बिस्तर पर खाना खाने से धन की हानि होने की सम्भावना रहती है|

* कभी भी खाना कहते वक़्त नमक की जरुरत पड़े तो अपनी हतेली पर नमक नही लेना चाहिए|

*महीने में एक बार पुरे घर में गौ मूत्र या फिर गंगाजल छिड़के. इससे घर सुद्ध होता है साथ ही यदि किसी बुरी शक्ति की वजह से घर में चल रही लड़ाई खत्म हो जाती है.

* सुबह उठकर सबसे पहले अपने घर कि खिड़की और दरवाजे खोलन चाहिए जिससे सूर्य नारायण की रौशनी पुरे घर में और मंदिर पर पड़े ऐसा करने से घर में शुख शांति आती है |

*नहाने के बाद जिस तोलिये का उपयोग किया हो उसका उपयोग दुबारा नहीं करना चाहिए. या फिर पहले दिन उपयोग में लाया गया तौलिया जो धोया ना हो उसका भी उपयोग ना करें. इससे संतान हठी व परिवार से अलग होने लगती है. इसलिए हमेशा तोलिये को धो कर ही प्रयोग में लाये|

* शाम के समय अपने घर के मुख्य द्वार खोल देने चाहिए और जुटे चप्पलो को वहाँ से हटा देना चाहिए कहते है की शाम के समय माँ लक्ष्मी का घर में आगमन होता है |

Loading...
loading...
Loading...