janma mrityu rahasya, mrityu ka sach, mrityu ke baad, mrityu ke baad jeevan, aatma ka safar in hindi, आत्मा का सफर, आत्मा का वजन,

मृत्यु के पश्चात् किस रास्ते से ले जाते है यमराज आत्माओ को|

मृत्यु के बाद स्‍थूल शरीर तो जहां का तहां रह जाता है लेक‌िन सूक्ष्म शरीर यमदूतों के द्वारा यमलोक ले जाया जाता है। ज‌िसके बारे में गरुड़ पुराण, कठोपन‌िषद, व‌िष्‍णु पुराण में उल्लेख म‌िलता है। गरुड़ पुराण में तो भगवान व‌िष्‍णु अपने वाहन गरुड़ को यमलोक के मार्ग, यमराज, नर्क लोक की रूप रेखा, नर्क में म‌िलने वाली सजा और पुनर्जन्म के बारे में भी बताते हैं। लेक‌िन इन सबसे हटकर कुछ ऐसे रहस्य भी हैं ज‌िसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

मरने के बाद तो हर व्यक्त‌ि और जीव की आत्मा यमलोक में पहुंचती है लेक‌िन आप चाहें तो यमलोक जाने वाले मार्ग पर जीते जी अपने शरीर के साथ जा सकते हैं और अगर आपका कलेजा मजबूत है तो आप उस स्‍थान को भी देख सकते हैं।ह‌िमाचल प्रदेश ज‌िसे देवभूम‌ि के रूप में जाना जाता है यहां चंबा ज‌िले के भारमौर नामक स्‍थान पर यमराज का एक मंद‌िर है। कहते हैं यमदूत मरने के बाद आत्माओं सबसे पहले यहीं पर लेकर आते हैं।
घर की तरह द‌िखने वाला यह मंद‌िर रहस्‍यों से भरा पड़ा है। कुछ लोग यहां आकर भी अंदर जाने का साहस नहीं जुटा पाते हैं। मंद‌िर में एक खाली कमरा है ज‌िसे यमराज के सच‌िव च‌ित्रगुप्त का कमरा कहा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *