जब भी हम मंदिर में भगवान के दर्शन के लिए जाते हैं तो अंदर जाते वक्त मंदिर की घंटी बजाते हैं.

पुरानी मान्यतों के मुताबिक मंदिर में घंटी बजाने से मानव के सौ जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं. ये मंदिर में घंटी बजाने के पीछे न सिर्फ धार्मिक कारण है बल्कि वैज्ञानिक कारण भी है.

कहा जाता है कि मंदिर में घंटी बजाना हमारे स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक होता है.
चलिए देखते है मंदिर में घंटी बजाने के फायदे –

1 – मंदिर में घंटी बजाने पर उसकी आवाज़ से आस-पास के वातावरण में कंपन पैदा होता है, जो काफी दूर तक जाता है. घंटी की ध्वनि से होनेवाले कंपन से इस वातावरण में आने वाले सभी जीवाणु, विषाणु और सूक्ष्म जीव नष्ट हो जाते हैं, जिससे आस-पास का वातावरण शुद्ध हो जाता है.

2 – जिन जगहों पर घंटी बजने की आवाज नियमित रुप से आती है, वहां का वातावरण हमेशा शुद्ध और पवित्र बना रहता है. इससे नकारात्मक शक्तियां हटती हैं.

3 – कहा जाता है कि जब सृष्टि का प्रारंभ हुआ तब जो नाद अर्थात ध्वनि गुंजन हुआ था वही आवाज घंटी बजाने पर भी आती है. उल्लेखनीय है कि यही नाद ॐकार के उच्चारण से भी जागृत होता है. देवालयों और मंदिरों के गर्भगृह के बाहर लगी घंटी या घंटे को काल का प्रतीक भी माना गया है.

4 – देवालयों में घंटी और घड़ियाल संध्यावंदन के समय बजाएं जाते हैं. संध्यावंदन 8 प्रहर की होती है. मंदिरों में घंटी और घड़ियाल ताल और गति से बजाया जाता है.

Loading...
loading...
Loading...