चौथ माता की कथा, करवा चौथ व्रत की पूजन विधि, करवा चौथ व्रत कथा, करवा चौथ की पौराणिक व्रत कथा, चौथ की कहानी, karva chauth pooja samagri in hindi, karva chauth puja vidhi in hindi, karwa chauth pooja thali, karwa chauth sargi, karva chauth vrat vidhi for unmarried, karva chauth thali items in hindi, karva chauth vrat udyapan vidhi

करवा चौथ पौराणिक व्रत कथा एवं व्रत की उत्तम विधि और मुहूर्त

100 साल बाद आया है ऐसा करवाचौथ ..

आइए सबसे पहले आपको बताते हैं कि कौन से योग इस करवाचौथ को दिव्य और चमत्कारी बना रहे हैं….

100 साल बाद करवाचौथ का महासंयोग
– करवा चौथ का त्यौहार इस बार बुधवार को मनाया जा रहा है.
– बुधवार को शुभ कार्तिक मास का रोहिणी नक्षत्र है.
– इस दिन चन्द्रमा अपने रोहिणी नक्षत्र में रहेंगे.
– इस दिन बुध अपनी कन्या राशि में रहेंगे.
– इसी दिन गणेश चतुर्थी और कृष्ण जी की रोहिणी नक्षत्र भी है.
– बुधवार गणेश जी और कृष्ण जी दोनों का दिन है.
– ये अद्भुत संयोग करवाचौथ के व्रत को और भी शुभ फलदायी बना रहा है.
– इस दिन पति की लंबी उम्र के साथ संतान सुख भी मिल सकता है.

करवाचौथ क्यों है इतना खास
कहते हैं जब पांडव वन-वन भटक रहे थे तो भगवान श्री कृष्ण ने द्रौपदी को इस दिव्य व्रत के बारे बताया था. इसी व्रत के प्रताप से द्रौपदी ने अपने सुहाग की लंबी उम्र का वरदान पाया था.

आइए जानें, इस दिन किन देवी-देवताओं की पूजा की जाती है और इस व्रत से कौन-कौन से वरदान पाए जा सकते हैं….
– करवाचौथ के दिन श्री गणेश, भोले नाथ,मां गौरी और चंद्रमा की पूजा की जाती है.
– चंद्रमा पूजन से महिलाओं को पति की लंबी उम्र और दांपत्य सुख का वरदान मिलता है.
– विधि-विधान से ये पर्व मनाने से महिलाओं का सौंदर्य भी बढ़ता है.
– करवाचौथ की रात सौभाग्य प्राप्ति के प्रयोग का फल निश्चित ही मिलता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *