महापंडित रावण ने सिर्फ पुत्र मेघनाथ को बताये 3 गुप्त बात जिसने इसे जाना, बना असीमित शक्तियों का मालिक

राजाधिराज लंकाधिपति महाराज रावण को दशानन भी कहते हैं, कहते हैं कि रावण लंका का तमिल राजा था, सभी ग्रंथों को छोड़कर वाल्मीकि द्वारा लिखित रामायण महाकाव्य में रावण का सबसे ‘प्रामाणिक‘ इतिहास मिलता है।

रावण एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और वास्तुकला का मर्मज्ञ होने के साथ-साथ ब्रह्म ज्ञानी तथा बहु-विद्याओं का जानकार था। उसे मायावी इसलिए कहा जाता था कि वह इंद्रजाल, तंत्र, सम्मोहन और तरह-तरह के जादू जानता था। उसके पास एक ऐसा विमान था, जो अन्य किसी के पास नहीं था। इस सभी के कारण सभी उससे भयभीत रहते थे।

जैन शास्त्रों में रावण को प्रति-नारायण माना गया है। जैन धर्म के 64 शलाका पुरुषों में रावण की गिनती की जाती है। जैन पुराणों अनुसार महापंडित रावण आगामी चौबीसी में तीर्थंकर की सूची में भगवान महावीर की तरह चौबीसवें तीर्थंकर के रूप में मान्य होंगे।

पूर्णिमा के दिन बस कर ले ये एक काम – खुद देवी लक्ष्मी आएँगी आपके घर

पूर्णिमा पंचांग के अनुसार मास की 15वीं और शुक्लपक्ष की अंतिम तिथि है जिस दिन चंद्रमा आकाश में पूरा होता है। इस दिन का भारतीय जनजीवन में अत्यधिक महत्व हैं। हर माह की पूर्णिमा को कोई न कोई पर्व अथवा व्रत अवश्य मनाया जाता हैं।

चैत्र की पूर्णिमा के दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है।वैशाख की पूर्णिमा के दिन बुद्ध जयंती मनाई जाती है।
ज्येष्ठ की पूर्णिमा के दिन वट सावित्री मनाया जाता है।आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरू-पूर्णिमा कहते हैं। इस दिन गुरु पूजा का विधान है। इसी दिन कबीर जयंती मनाई जाती है।श्रावण की पूर्णिमा के दिन रक्षाबन्धन का पर्व मनाया जाता है।भाद्रपद की पूर्णिमा के दिन उमा माहेश्वर व्रत मनाया जाता है।अश्विन की पूर्णिमा के दिन शरद पूर्णिमा का पर्व मनाया जाता है।कार्तिक की पूर्णिमा के दिन पुष्कर मेला और गुरुनानक जयंती पर्व मनाए जाते हैं।मार्गशीर्ष की पूर्णिमा के दिन श्री दत्तात्रेय जयंती मनाई जाती है।

पौष की पूर्णिमा के दिन शाकंभरी जयंती मनाई जाती है। जैन धर्म के मानने वाले पुष्यभिषेक यात्रा प्रारंभ करते हैं। बनारस में दशाश्वमेध तथा प्रयाग में त्रिवेणी संगम पर स्नान को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

माघ की पूर्णिमा के दिन संत रविदास जयंती, श्री ललित और श्री भैरव जयंती मनाई जाती है। माघी पूर्णिमा के दिन संगम पर माघ-मेले में जाने और स्नान करने का विशेष महत्व है।

फाल्गुन की पूर्णिमा के दिन होली का पर्व मनाया जाता है।

आज के दिन पर्स में रखे ये एक चीज़, हमेसा भरा रहेगा पर्स नोटों से

हम सभी चाहते की हमारे जेब में रखा पर्स हमेसा नोटों से भरा हो हमें कभी भी पैसो की कमी महसूस न हो परन्तु कभी कभी यह स्थिति बन जाती है हमारे पर्स में पैसे नहीं होते और उस वक्त हमे पैसो की कमी का समाना करना पड़ता है.

परन्तु क्या आपको पता है की ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह भी फर्क डालता है की आप अपने पर्स में पैसो के अलावा अन्य कौन सी वस्तु रखते है. यदि आप ज्योतिष के कुछ नियमो का पालन करे तो आपका पर्स हमेसा पैसो से भरा रहेगा. आइये जाने की कौन सी चीज़ का पर्स में होना आर्थिक लाभ दिलाता है.

यदि आप चाहते है की माँ लक्ष्मी सदैव आप पर अपनी कृपा बनाये रखे तो इसके लिए आप अपने पर्स में छोटे आकार का श्री यंत्र रखे. परन्तु श्री यंत्र को पर्स में रखने से पूर्व इसका विधि विधान पूर्वक पूजा अवश्य करे.