इस मंत्र के जाप से मुर्दा भी हो जाता है जिंदा, भक्तों की हर इच्छा तुरंत होती है पूरी

जो लोग महामृत्युंजय मंत्र का जाप नहीं कर सकते, उनके लिए लघु महामृत्युंजय मंत्र का विधान बताया गया है। रात को 9 बजे बाद लघु महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव पर दूध मिश्रित जल चढ़ाने से बड़े से बड़ा रोग और संकट भी टल जाता है।

लघु महामृत्युंजय मंत्र इस प्रकार हैं-

ॐ जूं सं: