दशहरे में राशि अनुसार कर लिया ये 1 काम पैसा खींचा चला आएगा घर

देवी अपराजिता का एक नाम विजया भी है इसलिए दशहरा को विजयादशमी कहते हैं। यह आश्विन शुक्ल दशमी को मनाया जाने वाला पर्व है। शास्त्रनुसार विजयदशमी पर शस्त्र-पूजा का विधान है। यह पर्व श्रीराम की विजय और नवरात्र की पूर्णाहुति के उपलक्ष में भी मनाया जाता है। दशहरा पर्व दस प्रकार के पापों का शमन करता है। इस दिन सर्वकार्य सिद्धिदायक ‘विजय’ नामक मुहूर्त होता है।

दशहरा के विशेष पूजन से दुर्भाग्य व दुर्घटना से सुरक्षा मिलती है तथा सौभाग्य व सुरक्षा मिलती है। क्या दुर्भाग्य आपका कभी पीछा नहीं छोड़ता जिससे हर काम में अड़चनें आती हैं। क्या आप हर क्षेत्र में जीत पाना चाहते हैं तो राशि अनुसार यह विशेष उपाय और टोटके करके आप भी पा सकते हैं सफलता।

दशहरे की सुबह कर लें इसके दर्शन आपकी सारी परेशानी उसी समय खत्म

गोमती चक्र को तंत्र में लक्ष्मी जी का प्रतीक माना जाता है। इनके एक तरफ उठी हुई सतह होती है, और दूसरी तरफ चक्र होता है। माना गया है कि जो लोग बुरी नज़र से बचे रहने के साथ ही, घर की यश समृद्धि बढ़ाना चाहते हैं उन्हें हमेशा घर में गोमती चक्र जरूर रखने चाहिए।

दशहरे का दिन तंत्र क्रियाओं के लिए खास महत्व रखते हैं आइए जानते हैं गोमती चक्र के खास उपायों के बारे में जिन्हें दशहरे की दिन करने से कई फायदे हो सकते हैं

नवरात्रि के अंतिम दिन इस तरह कराये घर में प्रवेश साक्षात् माँ का मिलेगा आशीर्वाद

नवरात्रि की नवमी को माता की पूजा के साथ ही कन्या पूजन की भी परंपरा है। इस दिन कन्‍याओं को घर बुलाकर भोजन कराया जाता है और उपहार दिए जाते हैं। इन्हें मां दुर्गा का ही रूप माना जाता है। अगर आप भी महानवमी को कन्या पूजन करते हैं तो फल प्राप्त करने के लिए इस तरह से पूजन करें।

रोज सुबह 3 चमत्कारी मंत्र घर में घुस भी नहीं पायेगी बीमारी और परेशानी

आज नवरात्रि की अष्टमी तिथि है। नवरात्रि के आठवें दिन माता के आठवें स्वरूप महागौरी की पूजा की जाती है। अष्टमी की तिथि के दिन महागौरी मां दुर्गा की पूजा से भक्तों के सभी तरह के पाप और कष्ट दूर हो जाते है।

अष्टमी के दिन कुंवारी कन्याओं को भोजन करवाया जाता है। दुर्गा उपासना भक्ति के साथ ऐसी शक्ति देने वाली मानी गई है, जो दुर्गति करने वाले तमाम बुरे विचार, दुर्गुण या दोषों का शमन कर देती है। इसलिए दुर्गा को दुर्गतिनाशिनी भी पुकारा जाता है।

नवरात्रि की अष्टमी जरूर करें ये 1 काम मन में सोचने मात्र से मनोकामना होगी पूरी

नवरात्रि का आज आठवां दिन है. देवी मां के आठवें स्वरूप को महागौरी के नाम से पुकारा जाता है. इसलिए आज मां महागौरी की आराधना की जाती है. मां महागौरी की पूजा करने से मन पवित्र हो जाता है और भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

इस दिन अन्नकूट पूजा यानी कन्या पूजन का भी विधान है. कुछ लोग नवमी के दिन भी कन्या पूजन करते हैं लेकिन अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना ज्यादा फलदायी रहता है. मां की पूजा करने से मनचाहे जीवनसाथी की मुराद पूरी होती है.

पहली बार बन रहा है ये शुभ सयोग इन राशि वालो की किस्मत बदलेगी

ग्रहों का प्रभाव हमारे जीवन में हमेशा रहता है। हर दिन बदलते हुए ग्रहों की चाल से कभी दिन अच्छा रहता है तो कभी खराब। जानिए आज का दिन सभी राशियों के लिए क्या लेकर आया है। जानिये कैसा रहेगा आपका दिन।

खुद भगवन शिव ने बताया है ये 4 काम ज़िन्दगी भर नहीं आएगी बीमारी और गरीबी

हर व्यक्ति खुशहाल जीवन यापन करना चाहता है। जिसके लिए वह प्रतिदिन मेहनत भी करता है। वास्तु से भी जीवन में खुशहाली और सुख समृद्धि पाई जा सकती है। व्यक्ति प्रतिदिन जीवन अौर वास्तु की कुछ बातों पर ध्यान किया जाए तो घर में आपसी प्रेम शांति और सुख-समृद्धि बनी रहती है। इतना ही नहीं इन बातों पर अमल करने से गरीबी अौर रोगों से भी मुक्ति मिलेगी।

जब भी पूजा करें मंदिर में तांबे के बर्तन में जल भर कर रखें। पूजा के बाद इस जल को पूरे घर में छिड़क दें। ऐसा करने से घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है अौर नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है।

कई बार अधिक मेहनत करने पर भी सफलता नहीं मिलती इसका एक कारण वास्तु दोष भी हो सकता है। प्रतिदिन उगते सूर्य को तांबे के लोटे से जल देने से वास्तु दोष कम होने लगेगा अौर सफलता व्यक्ति के कदम चूमेगी।

प्रतिदिन खाना बनाते समय पहली रोटी गाय अौर अंतिम रोटी कुत्ते के लिए निकालकर रख लें। इससे वास्तुदोष कम होने लगता है।

सोते समय अपना सिर ऐसे रखें कि उठते ही आपका मुंह उत्तर या पूर्व दिशा की अोर हो। इससे भगवान कुबेर की कृपा बरसने लगती है।

प्रतिदिन तुलसी के पौधे को जल दें अौर शाम के समय वहां धूप-दीप करें। ऐसा करने से वास्तु दोष कम होने लगते हैं अौर जीवन में खुशियों की भरमार होती है।

सदैव भोजन करते समय मुंह उत्तर दिशा की अोर होना चाहिए। इससे बीमारियों अौर परेशानियों से बचाव होता है।

कभी भी बिस्तर या बेडरुम में बैठकर भोजन न करें। यदि ऐसा करते हैं तो मनुष्य को कामों में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

घर में न करें ये 4 गलती माँ लक्ष्मी को दिलाती हैं क्रोध

अभी नवरात्रि का पर्व चल रहें हैं और इसके बाद विजयदशमी का त्योहार मनाया जाएगा जो कि अच्छाई पर बुराई जीत के रुप में मनाया जाता है।

19 अक्टूबर को दीपावली आएगी, जिसमें मां लक्ष्मी अपने भक्तों पर धन बरसाने के लिए आपके घरों में वास करने के लिए आएंगी। ऐसे में आज हम आपको ऐसी कुछ कामों के बारे में बता रहे हैं जिसके करने से माता लक्ष्मी नाराज हो जाती है और आपके घर में नहीं रुकती हैं।

नवरात्रि में घर के मुख्य दरवाजे पर करें ये 4 उपाय और सारी परेशानियों को करें बाय बाय

नवरात्रि के पूरे 9 दिनों तक मां दुर्गा की आराधना पूरे विधि -विधान से की जाती है, इस दौरान मां दुर्गा के 9 अलग-अलग स्वरूपों की पूजा होती है। इन नौ दिनों मां दुर्गा अपना आशीर्वाद देने के लिए हमारे घरों में विराजमान होती हैं। अगर आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास है तो नवरात्रि के दिनों इन उपायों को अपनाकर इस दोष को दूर किया जा सकता है।

घर से नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए नवरात्रि के दिनों में घर के मुख्य दरवाजे पर स्वस्तिक का निशान बनाना चाहिए। इसके अलावा श्रीगणेश का चित्र भी लगाएं। इससे कार्य में आने वाली तमाम तरह की बाधाएं दूर होती हैं।

नवरात्रि खत्म होने से पहले जरूर करें ये 5 काम, धन की कभी नहीं होगी कमी

शारदीय नवरात्रि खत्म होने में अभी काफी समय बचा हुआ है। लोग मां दुर्गा की पूजा-आराधना में बड़े ही भक्तिभाव से डुबे हुए हैं। धर्मग्रन्थों में मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए कई तरीके बताए गए हैं जिसको करने से अच्छे फल की प्राप्ति होती है।

अगर आप भी नवरात्रि में माता के नौ स्वरूपों की पूजा करते है तो नवरात्रि के खत्म होने पहले इनमें से कोई भी एक सामान नवरात्रि के शुभ मुहूर्त में जरुर घर पर लाकर रखें, इससे आपकी हर मनोकामना पूरी हो सकती है।