साल भर में पड़ने वाले त्यौहारों में दिवाली एक ऐसा त्यौहार है, जब महालक्ष्मी को प्रसन्न करना आसान होता है। साल 2017 की दिवाली पर महासंयोग बन रहा है। 27 साल बाद अमावस्या तिथि गुरुवार और चित्रा नक्षत्र का मिलन होगा।

इसके अतिरिक्त चतुर्ग्रही योग का संयोग 12 वर्ष बाद बनेगा। ज्योतिष विद्वान कहते हैं इस संयोग में खरीदारी करना शुभता लाता है।
इस वर्ष के बाद ये योग पुन: चार साल उपरांत वर्ष 2021 में बनेगा।गुरूवार के दिन आभूषण, भूमि, वाहन खरीदना अच्छा माना जाता है।

दिवाली पर प्रात: 7.18 मिनट तक हस्त नक्षत्र रहेगा तत्पश्चात चित्रा नक्षत्र लग जाएगा, जो 20 अक्तूबर की प्रात: 8.30 बजे तक रहेगा।

इस दिन चार ग्रह सूर्य, चंद्रमा, बुध और बृहस्पति तुला राशि में रहेंगे। उनकी स्थिती में भी परिवर्तन होगा, उनका वास एक ही राशि में होगा।

इस शुभ मुहूर्त में लक्ष्मी पूजन करने से धन से भर जाएगा आपका घर। दीपावली पर प्रदोषकाल का समय संध्या 5.38 बजे से लेकर रात 8.14 मिनट तक रहेगा। इस काल में लक्ष्मी पूजन का सबसे शुभ मुहूर्त है।

Loading...
Loading...