इस बार करवाचौथ 8 अक्टूबर को है. इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए कामना करती हैं. करवाचौथ के दिन महिलाओं को पूजा का विशेष ध्यान देना होता है. महिलाएं चंद्रोदय की रस्म के लिए अपनी पूजा की थाली को सजाती हैं. फिर चंद्रमा की पूजा कर अपने पति को छलनी में से देखकर उनके हाथ से जल पीकर अपना व्रत खोलती हैं. लेकिन जब तक चांद न देखें तब तक महिलाओं को कई चीजें से बचना चाहिए

हिंदू परंपरा के अनुसार इस दिन चांद देखने से पहले अगर किसी भी महिला ने चांद देखने से पहले अपने सास, मां या किसी भी बुजुर्ग का अनादर करती है तो उस दिन उसका व्रत पूरा नहीं हो पाता. क्योंकि करवाचौथ पर पति की कामना के साथ बड़े बुजुर्गों का भी महत्व होता है

loading...
Loading...
Loading...