धार्मिक परम्परा और औषधी के चलते इस तुलसी का मानव जीवन में बहुत अधिक महत्वता होती है .आप तो इस बात से अवगत ही होंगें की वर्षों से परंपरा चली आ रही है. कि घर में तुलसी का पौधा अवश्य रूप से होना चाहिए। सभी धार्मिक-पौराणिक ग्रंथ-शास्त्रों में तुलसी को पवित्र, पूजनीय, शुद्ध और देवी स्वरूप माना गया है।
तुलसी का प्रतिदिन दर्शन करना ,जल अर्पित करना और माँ की प्रार्थना करना आपके लिए बहुत ही फलदाई सिद्ध होता है, यदि आपके घर में तुलसी का पौधा नहीं है तो आज ही लगाएं इससे आपके जीवन में आपके घर परिवार में रोगों से मुक्ति मिलेगी जीवन में सम्पन्नता आएगी. आपके विचारों का शुद्धीकरण होगा और आप इसे जल अर्पित कर भगवान को प्रसन्न कर सकते है. और अपने जीवन में परम लक्ष्य को प्राप्त कर सकते है .
आप जानते ही होंगें की हिन्दू धर्म में देव पूजा और श्राद्ध कर्म में तुलसी आवश्यक मानी गई है। तुलसी पत्र से पूजा करने से व्रत, यज्ञ, जप, होम, हवन करने का पुण्य प्राप्त होता है। तुलसी के पत्ते तोड़ते समय बोले गये मंत्र –
ॐ सुभद्राय नमः कहते हुए
मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी.
नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।
इस मंत्र का कम से कम तीन बार जप करने के बाद ही तुलसी पत्र तोड़ें .
तुलसी को जल अर्पित करने का मंत्र-
महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी.
आधि व्याधि हरा नित्यं,तुलसी त्वं नमोस्तुते।।

Loading...
Loading...