व्यक्ति के स्वभाव को समझने और उसके भविष्य के रहस्य को सुलझाने से जुड़ी कई विद्याएं हमारी भारतीय पद्वति का हिस्सा रही हैं। जन्म के समय और तारीख के आधार पर कुंडली का आंकलन करना हो या फिर हस्तरेखा शास्त्र के अंतर्गत व्यक्ति के वर्तमान को समझना हो, यह सभी ज्योतिषीय विद्याएं भारत की प्राचीन विद्याओं में से एक हैं।

Loading...
Loading...