दूध का पीना स्वास्थ्य के लिए जितना लाभदायक होता है उतना ही दूध से जुड़े शकुन-अपशकुनों का वास्तु और ज्योतिष शास्त्र में महत्व बताया गया है। सुबह दूध के दर्शन करना वास्तुशास्त्र में बहुत ही शुभ माना जाता है। वास्तु सिद्धांत के अनुसार दूध सुख और संपन्नता का प्रतीक होता है और इस पर चन्द्रमा का अधिपत्य होता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार व्यक्ति के जीवन पर चंद्रमा का बहुत ही प्रभाव पड़ता है। अगर चंद्रमा सही हो तो व्यक्ति सुखी और प्रसन्न रहता है। वहीं चंद्रमा के बिगड़ने पर व्यक्ति परेशानियों में घिर जाता है। आइए जानते हैं चंद्रमा कैसे व्यक्ति के विपरीत हो जाता है …..

सभी घरों में सुबह-शाम दूध उबाला जाता है, जब दूध उबलता है तो चंद्रमा और मंगल के मिलने से लक्ष्मीनारायण योग की उत्पत्ति होती है। वहीं अगर दूध उबलते समय गिर जाता है तो इससे वास्तुदोष उत्पन्न होता है।

ये वास्तुदोष व्यक्ति के जीवन में अनेक तरह की परेशानियां लेकर आता है। व्यक्ति को मानसिक, आर्थिक आदि समस्याओं से गुजरना पड़ता है।

loading...
Loading...
Loading...