हिन्दू धर्म में फूल-पत्तियों का विशेष महत्व है. फूलों में नकारात्मक ऊर्जा को समाप्त करने की शक्ती होती है. फूलों की महक हो या उनके रंग वे वातावरण को शुद्ध करने की क्षमता रखते हैं. इतना ही नहीं अगर इनका सही प्रयोग किया जाए तो आपकी दिनचर्या को भी आपके अनुकूल बना सकते हैं. जिस तरह दिन यानि वार के आधार पर आपको रंगों का चुनाव करने की सलाह दी जाती है, कुछ उसी तरह वास्तुशास्त्र के नियमों के अनुसार यह भी ध्यान रखना चाहिए कि किस फूल की जरूरत किस दिन है.वार का संबंध ग्रहों से होता है यानी अगर आप ग्रहों के आधार पर खास फूल अपने साथ रखेंगे तो यह आपके लिए शुभ साबित होगा.

1. शनिवार न्याय के देवता शनि ग्रह का है. इस दिन अगर आप नीले लाजवनती या गहरे रंग के फूल अपने साथ रखेंगे तो आपके लिए फायदेमंद होगा.

2. रविवार सूर्यदेव को समर्पित है. सूर्यदेव को कलियुग के साक्षात देवता कहा जाता है. इस दिन कुटज या आक के फूल अपने पास रखना पूरे दिन को शुभ बना सकता है.

3. सोमवार भगवान चंद्रदेव को समर्पित माना जाता है , जो मनुष्य की कल्पनाओं और विचारों का प्रतिनिधित्व करते हैं. लैवेंडर के फूल सोमवार को विशेषतौर पर प्रयोग करना शुभ फलदायी होता है.

4. मंगलवार का दिन मंगल ग्रह का है. इस दिन लाल रंग के फूलों का विशेष तौर पर महत्व होता है. इसलिए मंगलवार को अपने साथ लाल गुलाब अवश्य रखना चाहिए.

5. बुधवार का दिन बुध ग्रह का है. इस दिन अगर आप लिली यानि कुमुद के फूल अपने साथ रखेंगे तो आप मानसिक तनाव और परेशानियों से खुद को बचा पाएंगे.

6. गुरुवार का दिन देवगुरु बृहस्पति को समर्पित होता है. इस दिन अगर आप किसी भी रूप में कमल का फूल अपने साथ रखेंगे तो आपका दिन शुभ और आपके अनुकूल रहेगा.

7. शुक्रवार का संबंध शुक्र ग्रह से होता है. इस दिन आपको वॉयलेट रंग का फूल अपने साथ रखना चाहिए, जिससे कि आपके आस-पास किसी तरह की नेगेटिविटी आपके लिए परेशानी उत्पन्न न कर सकें.

loading...
Loading...
Loading...