अमावश्या और सूर्यग्रहण दोनों आज एक साथ शाम होते ही दूर हो जाए इससे वरना जिंदगी भर पछताना पड़ेगा

नमस्कार दोस्तों हमारे चैनल में आपका हार्दिक स्वागत है. हर महीने चंद्रमा की कलाएं घटने और बढ़ने के कारण ही दो पक्ष होते हैं। इसी पक्ष में एक अमावस्या होती है जबकि दूसरी पूर्णिमा। हिन्दू धर्में में पूर्णिमा और अमावस्या का महत्वपूर्ण होती है ।खासकर आषाढ़ मास की अमावस्या का विशेष महत्व होता है क्योंकि इस अमावस्या के बाद वर्षा ऋतु आती है। आषाढ़ अमावस्या पर दान और पूर्वजों की आत्मा शांति के लिए गंगा स्नान का विशेष महत्व होता है।दोस्तों आज 13 जुलाई को आषाढ़ मास की अमावस्या है और साथ ही सूर्य ग्रहण भी लगा है जिससे इसका महत्व काफी बढ़ गया है।

शास्त्रों के अनुसार अमावस्या के दिन पवित्र नदी में स्नान और दान करना अत्यंत शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जो महिला इस दिन श्रद्धापूर्वक व्रत रखती हैं उनके पति की आयु लम्बी होती हैदोस्तों अमवस्या में करि पूजा से साक्षात् पितरो का आशीर्वाद मिलता है तथा व्यक्ति के सुख समृद्धि में इजाफा होता है.

आज हम आपको एक अमावश्या पर किया जाना वाला एक विशेष उपाय बताएंगे. दोस्तों यदि आपकी जिंदगी में बहुत सारी परेशानी, किसी भी कार्य में सफलता हाथ नहीं लगती, घर में अक्सर पैसो से जुडी समस्या है तो दोस्तों यह उपाय आपकी इन सभी समस्या को दूर करेगा. दोस्तों इस उपाय को करते वक्त आप अपना पूर्ण विशवास रखे. आपको आज शाम के समय एक मिटटी का दिया लेना है उसमे थोड़ा सा घी डाल कर उस दीपक को जला दे.

इस अपने छत की किनारे में रखे . आप किसी भी कोने में रख सके है. परन्तु उत्तर दिशा में रखेंगे तो यह बेहतर होगा. अब इस मन्त्र का आप जाप करे मन्त्र है. मन्त्र हो दोस्तों ॐ लक्ष्मी नारायण नमो नम:. तथा 3 बार मन में अपनी मनोकामना बोले

मनोकामना बोलने के तुरंत बाद आप चुपचाप निचे यानि की घर आ जाये और उस दीपक को छत पर जलते रहने दे. पीछे मुड़कर उस दीपक को देखने की कोशिस ना करे. अगली सुबह उस दीपक को किसी पवित्र नदी या पेड़ की निचे डाल दे . आपकी हर इच्छा पूर्ण होगी तथा आपके घर में धन दौलत की सम्पनता होगी.

आज शाम होते ही किस काम से दूर रहना है वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *