महादेव के साथ इन 4 देवताओ को बहुत पसंद है ये चमत्कारी फूल आपकी मन की इच्छा पूरी कर देगा

नीले रंग का फूल गुड़हल, कौमुदी, आक, अपराजिता और कमल का फूल भी होता है। इसके अलावा कई जंगली फूल भी नीले होते हैं। नीला रंग का फूल शनिदेव के अलावा विष्णु, श्रीकृष्ण और लक्ष्मीजी और हनुमान जी को भी प्रिय है।

यहां हम आपको बताने जा रहे हैं नीले फूल के कुछ ज्योतिषीय उपाय जिनको आजमाकर आप अपनी किस्मत बदल सकते हैं, संकटों को खत्म कर सकते हैं और धनवान बन सकते हैं।
पहला उपाय

यदि कुंडली में आठवें भाव में शुक्र ग्रह है तो उसके अशुभ परिणामों को कम करने के लिए कभी किसी से दान नहीं लेना चाहिए। तांबे का सिक्का या नीले फूल को लगातार 43 दिन तक गंदे नाले में फेंकना शुभ माना जाता है।

इसके अलावा यदि शुक्र बारहवें भाव में बैठा है तो शुक्र ग्रह की पीड़ा कम करने के लिए सूर्यास्त के समय नीले रंग के फूल को जमीन में दबा देना शुभ माना जाता है। पत्नी (स्त्री) नीला फूल या फल सूर्यास्त (शाम) के समय किसी सुनसान जगह पर खोद कर दबाएं, इससे स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।

दूसरा उपाय
विवाह में बार-बार बाधाएं और रूकावट आने पर व्यक्ति को सुनसान भूमि में लकड़ी से ज़मीन खोदकर नीले रंग का फूल दबाना चाहिए। शनि के दुष्प्रभाव के कारण विवाह में विलम्ब हो रहा है तो शनिवार के दिन लकड़ी से भूमि खोदकर काला सुरमा व नीले रंग का फूल दबाना चाहिए।

तीसरा उपाय

यदि षष्ठ भाव स्थित राहु समझ न आने वाला रोग दे रहा हो तो नीले फूलों से देवी सरस्वती (राहु की इष्ट देवी) की पूजा आराधना करनी चाहिए, इससे रोग से छुटकारा मिलता है।
चौथा उपाय

कारोबार में कामयाबी : पांच टुकड़े फिटकरी, 6 नीले फूल और एक कमर में बांधने वाला बेल्ट नवमी के दिन देवी को चढ़ा दें। दसमी के दिन बेल्ट को किसी कन्या को दे दें, नीले फूल बहते पानी में डालें और फिटकरी के टुकड़े को संभालकर रख लें।

साक्षात्कार देने जाते समय ये टुकड़े अपने पास रखेंगे तो सफलता मिलेगी।

कारोबार से जुड़े किसी महत्वपूर्ण कार्य से जा रहे हैं तो ये फिटकरी के टुकड़े अपने पास रखेंगे तो अवश्य सफलता मिलेगी। काम से लौट आएं तब फिटकरी को उचित स्थान पर संभालकर रख दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *