चाहे कितनी भी बड़ी पथरी हो गलाकर पेशाब के जरिये बाहर निकाल देगा यह नुस्खा//kidney stone kaise nikale

दोस्तों शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग किडनी को ही माना जाता है, क्योंकि किडनी हमारे शरीर मे मौजूद विषाक्त पदार्थ को फिल्टर करके बाहर निकाल देता है। मनुष्य के शरीर मे जन्म से ही 2 किडनी होती है। अगर किसी कारणवश एक किडनी खराब भी हो जाती है तो वह एक किडनी के सहारे भी जीवन जी सकता है। कई बार तो गलत खान-पान की वजह से किडनी में पथरी की समस्या हो जाती है।

पथरी कितने प्रकार की होती है-

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

पथरी मुख्यतः चार प्रकार की होती है।

सिस्टीन पथरी- यह पथरी आनुवंशिक के कारण होती है।
कैल्शियम की पथरी- यह पथरी कैल्शियम की कमी के कारण होती है। सबसे ज्यादा यही पथरी पायी जाती है।
स्ट्रावाइट पथरी- यह पथरी पेशाब में इंफेक्शन के कारण होती है।
यूरिक एसिड पथरी- जो लोग कम पानी पीते है उनको ये पथरी हो सकती है।
पथरी होने का कारण-

पथरी होने का निम्न कारण है-

अगर आप पेशाब को ज्यादा देर तक रोके रहतें है तो इस वजह से पथरी हो सकती है।
पालक और टमाटर लम्बे समय तक सेवन करने से पथरी हो सकती है।
पेशाब मार्ग में संक्रमण की वजह से भी पथरी हो सकती है।
गलत खान-पान की वजह से या फिर कम पानी पीने से पथरी हो सकती है।
किडनी में पथरी होने से दिखाई देते है ये लक्षण-

अंडकोष में अधिक मात्रा में दर्द होना
शरीर का कमजोर होना
पेशाब करते समय दर्द व जलन होना
रुक-रुककर पेशाब का निकलना
बुखार से पीड़ित रहना
पेशाब करते समय शरीर एकाएक कांप उठना और तेज दर्द महसूस होना
पेट मे हमेशा दर्द रहना
पथरी को जड़ से खत्म करने के लिए करें ये छोटा सा उपाय-

पहला उपाय- एक गिलास पानी से भरे किसी बर्तन में 2 प्याज के टुकड़े को डालकर 20 मिनट तक उबाले। जब प्याज का टुकड़ा अच्छी तरह से पक जाए तो उस प्याज के टुकड़े को पीसकर उसका रस 7 दिन तक दिन में तीन बार सुबह, शाम और दोपहर को पीएं।। इस उपाय से पुरानी से पुरानी पथरी पेशाब के मार्ग से बाहर निकल जायेगी।

दूसरा उपाय- 10 ग्राम पपीते की जड़ को पीस ले। फिर इसे 1 गिलास पानी मे अच्छी तरह से मिला लें। फिर इस घोल को छननी से छान लें और मरीज को यह घोल पिला दें। यह उपाय दिन में एक बार कम से कम 20 से 25 दिन तक करें। कितना भी पुराना से पुराना पथरी हो गलकर पेशाब के माध्यम से बाहर निकल जायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *