नवरात्री की नवमी में पीपल के पत्ते पर चुपचाप ये 1 शब्द लिख रखे यहां गाडी बंगला पैसा सब होगा पास

नवरात्रि के आखिरी दो दिन अष्टमी और नवमी मनाई जाती है। नवरात्र के आठवें दिन मां महागौरी और नौवे दिन सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है अष्टमी और नवमी को मां की पूजा और हवन आदि का विशेष महत्व होता है। ऐसा करने से सालभर घर में सुख-शांति और समृद्धि बनी रहती है। इस दिन किए कुछ उपाय भी आपको आने वाले समय धनवान बना सकते हैं।

आइए जानते हैं कुछ उपाय

अष्टमी और नवमी पूजा के दिन आप जिन कन्यायों के भोजन करा रहे हैं। उन्हें उपहार में विद्या की वस्तु जैसे पेन, पुस्तक, किताब आदि जरूर दें। ऐसा करने से आपके घर में सुख-शांति का वास होगा और धन-धान्य की कमी नहीं होगी।

नवरात्र में अष्टमी और नवमी के दिन से ही आप श्री सूक्त का पाठ शुरू कर दें। कहते हैं कि ऐसा करने से घर में आर्थिक संकट कभी नहीं होता है।

कन्या पूजन के दिन 11 गरीब कन्याओं को भोजन कराना और उन्हें उनकी जरूरत की चीज दान करने से घर में हमेशा लक्ष्मी और सुख शांति का वास होता है।

अष्टमी नवमी के दिन पूजा के दौरान लाल रंग के कपड़े में 11 कौड़ियां रख लें और उसे काले धागे से बांध लें। फिर दोनों कपड़ों पर लाल रंग की रोली से स्वास्तिक का निशान बनाकर एक कपड़े को पूजा स्थान के पास और दूसरे को अपनी अलमीरा में रख दें।

अष्टमी व नवमी के दिन पूजा से पहले घी के 9 दीपक जलाएं। इन दीयों को स्टील या पीतल की थाली में रख दें और अपने आप बुझने दें। माना जाता है कि ऐसा करने से घर में लक्ष्मी का वास होता है और घर में धन-धान्य की कमी नहीं होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *