दस नामो के जाप से शनिदेव होंगे प्रसन्न

 

शनि देव को न्याय का देवता कहा जाता हैं .वे मनुष्यो को उनके कर्मो के अनुसार शुभ अशुभ फल प्रदान करते हैं. हर व्यक्ति को जीवन में शनि की साढ़ेसाती से गुजरना पड़ता हैं. जीवन में शनि का अशुभ प्रभाव हो तो आपको मेहनत आसानी से नहीं मिलती ,आपको बहुत संघर्ष करना पड़ता हैं. शनि का अशुभ प्रभाव कम करने के लिए शनि की कृपा प्राप्त करने के लिए दान ,व्रत आदि उपाय बताये गए हैं . इनमे से एक उपाय हैं शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के पास शनि के नामो का जाप करना ,ऐसा विश्वास हैं की इन नामो का जाप करने से शनि की कृपा मिलती हैं एवं साढ़ेसाती में भी शनि का शुभ प्रभाव मिलता हैं. शनि के नाम हैं:

कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।

इस मंत्र के अनुसार कोणस्थ, पिंगल, बभ्रु, कृष्ण, रौद्रान्तक, यम, सौरि, शनैश्चर, मंद और पिप्पलाद।
इन दस नामो का जाप करने से शनि की कृपा मिलती हैं और शनि के अशुभ प्रभाव से बचा जा सकता हैं.

 

शनिवार के दिन काले तिल जल में डालकर स्नान करे एवं पीपल के वृक्ष में जल एवं दूध अर्पित करे ,और इन दस नामो का जाप करें. इन दस नामो का जाप मंत्रो के जैसा हैं .

इन चीजों के दान से खुश हो जाएंगे शनिदेव, जीवन में आएंगी खुशियां

नौ ग्रहों में शनि एकमात्र ऐसा ग्रह है, जिसे सबसे क्रूर माना जाता है। शनिदेव की साढ़े साती या शनि की ढैया का नाम सुनकर अच्छे-भले जातकों पर भी प्रतिकूल मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ता है।

यह सही है कि अगर शनि ग्रह मारकेश या अष्टमेश में हो जाए तो जातक के जीवन में अनिष्ट या अशुभ फल देखने को मिलते हैं। परन्तु शनि के शुभ ग्रह से युत या दृष्ट होने से शनि की साढ़े साती या ढैया जातक पर कम कुप्रभाव डालती है। कई बार जातको को फायदा भी मिलता है।

शनिदेव को ऐसे करें खुश-

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक शनि ग्रह मकर और कुम्भ राशियों का स्वामी है। पुष्य, अनुराधा और उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र शनि के हैं। तुला राशि में 20 अंश पर शनि उच्च का और मेष राशि में 20 अंश पर परम नीच का होता है।

2017 में किस पर रहेगी शनि की नजर, किसकी चमकेगी किस्मत?

shani rashi parivartan 2017

ज्योतिष शास्त्र के माध्यम से संभावित भविष्य के बारे में काफी कुछ जाना जा सकता है। आज हम आपको बता रहें शनि ग्रह के अनुसार, साल 2017 आपके लिए कैसा रहेगा? इस राशिफल के माध्यम से आप जान पाएंगे इस साल उसके साथ क्या अच्छा होगा या कहां कब आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

shani rashifal 2017

ज्योतिष शास्त्र में शनिदेव को न्याय का देवता माना गया है क्योंकि मनुष्यों को उनके अच्छे-बुरे कर्मों का दंड शनिदेव ही देते हैं। 26 जनवरी 2017 से शनि वृश्चिक से धनु राशि में प्रवेश रहेगा। वक्री होने के कारण 21 जून को पुन: वृश्चिक में आएगा फिर मार्गी होकर 26 अक्टूबर से धनु में प्रवेश करेगा। आगे की स्लाइड्स में जानिए साल 2017 में शनिदेव किस प्रकार आपकी राशि को प्रभावित करेंगे-

कच्चे धागे से बांधे शनिदेव से पक्का रिश्ता कटेगा शनि का प्रकोप

कच्चे धागे से शनिदेव के साथ पक्का रिश्ता बांध लीजिए. क्‍योंकि यही कच्चा धागा आपको कलयुग के देवता शनि का वरदान दिला सकता है. हिमाचल प्रदेश के महाकाल मंदिर में शनिदेव का ऐसा मंदिर है, जहां खंभों पर कच्चा धागा बांध दिया जाए तो न केलव शनि प्रकोप कट जाता है बल्कि विपरीत ग्रह स्थिति से भी मुक्ति मिल जाती है.
महाकाल मंदिर में गोल-गोल खंभों के इर्द गिर्द घूमती है भक्तों की दुनिया. इनमें ही वो भरोसा और चमत्कार दिखता है जिसका अनुभव करने के लिए भक्‍त न तो समय की परवाह करते हैं और न ही दूरी की. महाकाल मंदिर में लगे खंभे कोई मामूली खंभे नहीं हैं, ये मुराद पूरी करने वाले खंभे हैं. ये आस्था को परवान चढ़ाने वाले खंभे हैं, ये चमत्कार दिखाने वाले खंभे हैं. शनिदेव के मंदिर के ये 12 खंभे भक्तों को शनिदेव का आशीर्वाद दिलाते हैं और भक्तों के हर दुख का निवारण करते हैं.

हिमाचल प्रदेश के महाकाल गांव में बने शनिदेव के मंदिर में हर राशि का एक खंभा है. कहते हैं अगर भक्त अपनी राशि के खंभे पर कच्चा धागा बांधकर कामना मांगते हैं तो शनिदेव उन्हें कभी निराश नहीं करते. चाहे साढ़ेसाती हो या ढैय्या, अष्टम शनि का संकट हो या कंटक शनि के कांटे जीवन में चुभ रहे हों, भक्तों के जीवन का हर दुख यहां आकर सुख में बदल जाता है.

कहते हैं इसी मंदिर में आकर शनि ने महाकाल की आराधना कर उनसे शक्तिशाली होने का वरदान पाया था. यहीं पर शनिदेव की इच्छा पूरी हुई थी, इसलिए यहां शनिदेव भक्तों की हर इच्छा पूरी करते हैं.

आपके शनिवार को शुभ बनाते है ये पांच अचूक टोटके

शनिदेव और शनिवार से अधिकतर लोग डरते है.

क्योंकि शनिवार को अशुभ दिन समझते है. इसलिए कोई भी कार्य इस दिन करने से हिचकिचाते हैं.

जबकि शनिवार से ज्यादा शुभ दिन और कोई दिन नहीं होता. शनिवार एक मात्र ऐसा दिन है, जब सारे देवता एक साथ बैठकर वार्तालाप करते है.

शनिवार को सारे ग्रहों की सभा होती है और शनिवार को ही कई देवी देवताओं का वार होता है. ऐसे में शनिवार का दिन अशुभ कैसे हो सकता है.

फिर भी शनिवार को लेकर मन में कोई भ्रम है, तो हम आपको ऐसे अचूक उपाय बताएँगे कि आपका शनिवार शुभ दिन बन जाएगा.

तो आइये जानते है क्या है शनिवार के टोटके जो शनिवार को शुभ और फलदायक बना देंगे.

शनिवार के टोटके –

1 – शनि देव की पूजा

हर शनिवार सुबह स्नान करके काले रंग के कपडे पहने. शनि मंदिर जाकर सरसों तेल का दिया जलाकर, सरसों का तेल शनि देवपर अर्पण करें. लोहे की किल, काला तिल, काला उड़द और काला कपडा शनिदेव को चढ़ाकर किसी गरीब को दान में दें .

2 – काले जानवार को भोजन

शनिवार को जो भी काला जानवर दिखाई दे. जैसे भैस, काली गाय, काली बकरी, काले कुत्ते को कुछ न कुछ खाने को जरुर दे.

3 – गरीबों को दान

शनिवार को गरीबों को अन्न, लोहा, तेल, सिक्के, काला कपडा, भोजन , पानी दान में जरुर दें. इससे शनि की कृपा मिलती है और सारे दोष दूर होते हैं.

4 – मीठा भोजन दें.

छोटे जीव जैसे चीटी, चिटा, काला कौवा, कीड़े मकोडो को शक्कर या काला गुड खाने को दे. यदि यह जीव न मिले तो किसी पेड़ के नीचे जड़ो पर काला गुड रखकर आ जाएँ.

5 – पाठ करें

प्रतिदिन सुबह उठकर स्नानकर पूजा पाठ के बाद आसान लगाकर बैठ जाएँ और शनि चालीसा, हनुमान चालीसा, और दुर्गा चालीसा का कम से कम 7 बार पाठ करें.

ये है शनिवार के टोटके – शनिवार को यह सभी उपाय अपनाए या हो सके तो प्रतिदिन यह कार्य कर लें. सिर्फ २ माह के अंदर आपका शनिवार फलदायक होगा. आपके लिए शनिवार इतना शुभ दिन बन जाएगा कि आप हर कार्य शनिवार को ही करना चाहेंगे