मृत्यु के बाद कब और कैसे प्राप्त होता है मनुष्य को शरीर

मृत्यु के बाद का रहस्य, mot ke baad kya hota hai, marne ke baad kya hota hai, मौत के बाद की दुनिया, मौत के बाद क्या होता है

मृत्यु से जुड़े गरुड़ पुराण के कुछ रोचक तथ्य : –

एक अच्छी जिंदगी तथा लम्बी आयु की कामना तो हर किसी व्यक्ति की होती है परन्तु क्या अपने कभी सोचा है की जब आपकी आत्मा आपके शरीर का साथ झोड़ देगी तब उसका क्या होगा और कब उसे दुसरा शरीर पुनः प्राप्त होगा.

वेदो एवं पुराणों में इस संबंध में अनेक बातो का वर्णन आया है. वेदो में बताई गई तत्वज्ञान से संबंधित इन बातो को उपनिषद अथवा वेदांत कहते है.

वेदांत के अनुसार कुछ मोको पर किसी आत्मा को शरीर तत्क्षण ही प्राप्त हो जाते है फिर वह शरीर मनुष्य का या फिर किसी अन्य जीव का. आत्मा दूसरे शरीर को तीन दिन बाद धारण करती है तभी तीजा बनाई जाती है.

कुछ आत्माएं दुसरा शरीर 10 या 13 दिन बाद धारण करती है, अतः इसी कारण दसवीं व तेरहवीं मनाई जाती है. कुछ आत्माओं को सवा माह यानि 34 से 40 दिन नए शरीर धारण करने में लगते है.

यदि कोई आत्मा प्रेत अथवा पितर योनि में बादल जाती है तो फिर उसके मुक्ति के लिए एक साल के बाद उसकी बरसी करी जाती है फिर 3 वर्ष बाद उसे गया छोड़ के आ जाते है.

ताकि यदि आत्मा या पितर को मुक्ति ना मिल रही हो तो वह गया में ही रहे वही उसे मुक्ति की प्राप्ति होगी.

आत्मा का वास्विक स्वरूप :-

कभी भूल से भी ना करे ये 11 कार्य, अन्यथा हो जायेगी आपकी उम्र कम !

umar kam hone ke karan, ayu kam hone ke karan, उम्र काम क्यों होती है , उम्र काम होने के कारन

हमारे हिन्दू धर्म में अधिकतर कुछ ऐसे लोग भी होते है जो हिन्दू धर्म का पालन नहीं करते. वे अपने बच्चों को भी हिन्दू संस्कार से दूर रखते है. विद्यालयों में भी बच्चों को यह नहीं सिखाया जाता. इसी के कारण वे बच्चे जब बड़े होते है तो उनकी जिंदगी हिन्दू धर्म के प्रति विरोधाभास से भरी होती है तथा वे गलत राह पर चलते हुए न केवल अपने परिवार, समाज बल्कि पुरे देश को नुक्सान पहुंचाते है.

यदि वे नुक्सान नहीं भी पहुंचाते तो उनके जिंदगी में उनके अलावा कोई और महत्व नहीं रखता. उनमे वे सारे गुण मौजूद होते है जो समाजविरोधी होते है.

महभारत के अनुसाशन पर्व में विस्तार से धर्म, निति तथा अध्यात्म के संबंध में विस्तार से वर्णन मिलता है. इसमें यह बाते बतलाई गई है की मनुष्य को क्या करना चाहिए और क्या नहीं. इसके अलावा आयुर्वेद तथा वास्तुशास्त्र में भी यह बाते बतलाई गई है की किन कारणों से मनुष्य की आयु घटती है.

आज हम आपको कुछ ऐसे बाते बताने जा रहे जिन्हे आप भूल से भी न करे अन्यथा यह आपकी उम्र में प्रभाव डालती है और आप की उम्र कम होती है.

पहला कर्म :-

जब कोई व्यक्ति झूठे मुंह स्वध्याय करता है अर्थात पढ़ाई करता है यमराज जी उसके उम्र को कम कर देते है. अगर आप अपनी उम्र कम नहीं करवाना चाहते तो कभी भी झूठे मुंह भोजन ना करे.

यदि आप भोजन करने के दौरान बीच से ही जूठे मुंह उठ जाता है तथा फिर से कुछ देर बाद भोजन ग्रहण करने बैठ जाते है तो यह भी आपकी उम्र कम कर देगा.

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं होती एक गोत्र में शादी…. !

gotra vivah, gotra anushar vivah, gotra anushar vivah kyu anivariya hai, gotra ki manyata, गोत्र अनुसार विवाह, गोत्र का महत्व, गोत्र की महत्वता,

गौत्र शब्द से अभिप्राय कुल व वंश से है, वास्तव में गौत्र प्रणाली का जो मुख्य उद्देश्य है वह उसको मूल प्राचीनतम व्यक्ति से जोड़ता है. जैसे की एक व्यक्ति का गौत्र भारद्वाज है तो इसका अभिप्राय यह है की उसके पुराने पूर्वज वैदिक ऋषि भारद्वाज से संबंधित थे या यह कह लीजिए की उसका जन्म भारद्वाज पीढ़ी में हुआ था.

आपने एक ही गौत्र में शादी से जुड़ी कोंट्रोवर्सीस के बारे में तो आपने सुना ही होगा. अखबारों में आये दिन कहीं ना कहीं से खबर मिलती है की किसी जोडे की इसलिए हत्या कर दी गई क्योंकी उन्होने घरवालों की इच्छा के खिलाफ, एक ही गौत्र में शादी करी. खप पंचायत ने तो एक ही गौत्र में विवाह को गैर कानूनी करार दे दिया है.

आइये जानते है इस पुरे विवाद के बारे मैं पुराणों में क्या लिखा है,

विश्वामित्र, जमदग्नि, भारद्वाज, गौतम, अत्रि, वशिष्ठ, कश्यप- इन सप्तऋषियों और आठवें ऋषि अगस्ति की संतान ‘गौत्र’ कहलाती है. ब्राह्मणों के विवाह में गौत्र-प्रवर का बड़ा महत्व है. पुराणों व स्मृति ग्रंथों में बताया गया है कि यदि कोई कन्या संगौत्र हो, किंतु सप्रवर न हो अथवा सप्रवर हो किंतु संगौत्र न हो, तो ऐसी कन्या के विवाह को अनुमति नहीं दी जाना चाहिए.

यानी जिस व्यक्ति का गौत्र भारद्वाज है, उसके पूर्वज ऋषि भारद्वाज थे और वह व्यक्ति इस ऋषि का वंशज है. आगे चलकर गौत्र का संबंध धार्मिक परंपरा से जुड़ गया और विवाह करते समय इसका उपयोग किया जाने लगा.

ऋषियों की संख्या लाख-करोड़ होने के कारण गौत्रों की संख्या भी लाख-करोड़ मानी जाती है, परंतु सामान्यतः आठ ऋषियों के नाम पर मूल आठ गौत्र ऋषि माने जाते हैं, जिनके वंश के पुरुषों के नाम पर अन्य गौत्र बनाए गए. ‘महाभारत’ के शांतिपर्व (297/17-18) में मूल चार गौत्र बताए गए हैं.

रावण की पत्नी की सहायता द्वारा ही हो पाया था रावण का वध

विभीषण रावण मंदोदरी रहस्य, ravana ke rahasya, vibhishana ke rahasya, mandodari ke rahasya, ravan vadh, ravan vadh in ramayan, रावण की मृत्यु कैसे हुई, रावण कैसे मरा

जानिए किस प्रकार से मंदोदरी ने रावण वध में भूमिका निभाई : – 

हम बचपन से ही अपने बुजर्गो या माता पिता से रामायण की कथा सुनते आये है तथा आज तक हमें सिर्फ यही पता है की रावण की मृत्यु की वजह उसका भाई विभीषण था. विभीषण ने ही श्री राम को अपने भाई रावण के मृत्यु का रहस्य बताया था.

परन्तु वास्तविकता में तो यह बहुत कम लोग ही जानते है की यह कहानी की आधी हकीकत है. क्योकि कहानी का आधा भाग रावण की पत्नी मंदोदरी से जुडा है. आज हम आपको मंदोदरी से जुडा रहस्य बताने जा रहे है.

रावण सहित उसके दो भाई कुम्भकर्ण तथा विभीषण ने ब्र्ह्मा जी की कठिन तपस्या करी तथा उन्हें प्रसन्न करा. जब ब्र्ह्मा जी तीनो भाइयो की कड़ी तपस्या से प्रसन्न होकर उनके सामने प्रकट हुए तो रावण ने ब्र्ह्मा जी से अमरता का वरदान मांगा.

ब्र्ह्मा जी ने रावण के इस वरदान पर असमर्थता जताई परन्तु उन्होंने रावण को एक तीर दिया व कहा की यही तीर तुम्हारे मृत्यु का कारण बनेगा.
रावण ने ब्र्ह्मा जी से वह तीर ले लिया तथा उसे अपने महल में ले जाकर सिहासन के पास दीवार में चुनवा दिया.

क्यों बना सकुनी कुरुवंस के विनाश का कारण

Mahabharat ke rahasya, महाभारत युद्ध के रहस्य, mahabharat yudh, महाभारत के रहस्य, महाभारत के पात्र, mahabharat ke rahasya, mahabharat ke rahasya hindi me, mahabharat ke 10 rahasya hindi me

कहानी सकुनी की  : – 

महाभारत युद्ध का सबसे प्रमुख कारण होने के बावजूद शकुनि के पात्र को काम आंका जाता है. इस बात से कोई भी इंकार नहीं कर सकता की यदि महाभारत के पात्र में शकुनि नहीं होता तो शायद महाभारत की सम्पूर्ण कथा ही कुछ और होती.

शकुनि तथा इसके पासो ने कुरु वंशजों को एक-दूसरे के खिलाफ खड़ा कर दिया. वह शकुनि ही था जिसने कौरवों और पांडवों को इस कदर दुश्मन बना दिया कि दोनों ही एक-दूसरे के खून के प्यासे हो गए.

शकुनि को महाभारत का सबसे रहस्यमय पात्र कहा जाना गलत नहीं है. गांधारी के परिवार को समाप्त कर देने वाला शकुनि अपनी इकलौती बहन से बहुत प्रेम करता था लेकिन इसके बावजूद उसने ऐसे कृत्य किए, जिससे कुरुवंश को आघात पहुंचा.

क्या आप जानना नहीं चाहते कि आखिर शकुनि यह सब करने के लिए क्यों बाध्य हुआ? ऐसा क्या राज था शकुनि का जिसके चलते उसने अपनी बहन के पति को ही अपना सबसे बड़ा दुश्मन समझ लिया था?

चौसर, शकुनि का प्रिय खेल था. वह पासे को जो अंक लाने के लिए कहता हैरानी की बात है वही अंक पासे पर दिखाई देता. इस चौसर के खेल से शकुनि ने द्रौपदी का चीरहरण करवाया, पांडवों से उनका राजपाठ छीनकर वनवास के लिए भेज दिया, भरी सभा में उनका असम्मान करवाया.

आखिर क्यों करा रावण ने श्री राम जी की माता कौशल्या का अपहरण

ramayan ki adbhut kahaniya, ansuni kahaniyan, ansuni kahaniyan, ramayan ki rochak kahaniya, free ramayana story, रामायण की रोचक कहानिया, रामायण की विचित्र कहानिया, रामायण की अनसुनी कहानिया

आखिर क्या है यह कहानी चलिए जानते है : –

भगवान श्री राम की माता कौशल्या के सम्बन्ध में आनंद रामायण में एक अनोखी कथा मिलती है. रामायण की कथा में आप रावण द्वारा सीता के हरण की कथा से तो भली भाँति परिचित होंगे की आखिर कैसे अपनी बहन सूपर्णखा की प्रतिशोध का बदला लेने के लिए रावण ने देवी सीता का छल से हरण किया.

लेकिन शायद आप इस कथा से परिचित नहीं होंगे की रावण द्वारा एक बार प्रभु श्री राम की माता कौशल्या का भी हरण किया था. वाल्मीकि रामायण के अनुसार कौशल्या के पात्र का चित्रण एक ऐसी स्त्री के रूप में किया गया है जिसे पुत्र प्राप्ति की इच्छा थी, तथा इस इच्छा की पुत्री के लिए राजा दशरथ ने एक विशाल यज्ञ करवाया था.

कौशल्या कौशल प्रदेश ( छत्तीसगढ़ ) की राजकुमारी थी तथा उनके पिता महाराजा सकोशल व माता रानी अमृतप्रभा थी. कौशल्या के स्वयम्बर के लिए अनेक देश प्रदेश के राजकुमारों को निमंत्रित किया गया था परन्तु इसी बीच एक और अन्य घटना घटित हुई.

वास्तविकता में कौशल प्रदेश के राजा सकोशल की राजा दशरथ से शत्रुता थी, तथा वे उनसे युद्ध चाहते थे परतु उधर दशरथ कौशल राज्य से शांति वार्ता करना चाहते थे.

11 ऐसे स्थान है जहां आपको मिलेंगे 11 वरदान – शिर्डी साईं बाबा !

sai baba ke upay, sai baba ke chamatkar, sai baba, साई बाबा के आसान उपाय, साई बाबा के सरल उपाय

shirdi sai baba blessings :

शिरडी के साई (shirdi sai baba)मंदिर में देश भर के भक्तों की बड़ी आस्था है। शिरडी में साई बाबा के 11 ऐसे स्थान हैं जहां से भक्तों की मनोकामना पूरी होने का गहरा संबंध है। अगर आप भी शिरडी जाकर साई बाबा से 11 वरदान (shirdi sai baba blessings)पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको उन 11 स्थानों के बारे में बता रहे हैं जहां आप साई बाबा से वरदान मांग सकते हैं। वहां किये जाने वाले उपाय से नौकरी,धन-संपत्ति,शादी विवाह जैसी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। जानिये कि शिरडी जाकर आपको 11 उपाय कैसे और किस स्थान पर करने हैं। वैसे अगर आप शिरडी न जा पायें तो साई बाबा के किसी मंदिर में भी आप ये उपाय आज़मा सकते हैं।

-शिरडी में सुखी जीवन का वरदान
शिरडी साई मंदिर में गुरुवार और शुक्रवार की शाम को धूप,लोबान,अगरबत्ती जलायें।

शिरडी में मिलेगी धन-संपत्ति
नंदादीप के पास लेंडीबाग में तेल या घी का दीप जलाने से घर में धन-संपत्ति आती है।

शिरडी में मिलेगा प्रमोशन
समाधि दर्शन के बाद ग़रीबों को खाना खिलाने या खाने की चीज़ें बांटने से कार्यक्षेत्र में तरक्की या प्रमोशन मिलेगा।

शिरडी में होगी बीमारी दूर
साई के प्रसादालय में साई से सेहतमंद होने की प्रार्थना कर भोजन करने से सेहत में सुधार होगा।