घर में दिखे ये 2 चीज़े तो समँझ लेना की माँ लक्ष्मी आने वाली है आपके घर

दोस्तों आम तौर पर हिंदू धर्म में लोग घर में मकड़ी का जाला लगना शुभ नहीं मानते। यह जीवन में उलझनों के बढ़ने की ओर संकेत करता है। मगर इसके साथ कुछ मान्‍यताएं ऐसी भी हैं कि विशेष पर‍िस्थिति में मकड़ी का दिखना शुभ भी माना जाता है। अाज हम अापकाे बताएंगे कि मकड़ी का कब दिखना होता है शुभ और कब अशुभ होता है

दोस्तों सुबह उठने के बाद मकड़ी यदि किसी स्‍थान पर ऊपर की ओर चढ़ते हुए दिखे तो इसे अपनी तरक्‍की का संकेत सम‍झिए। अगर मकड़ी ऐसे सपने में भी दिखे तो भी अच्‍छा है।

मकड़ी के जाले में यदि आपको अपने नाम के अक्षरों की आकृति जैसी छवि दिखे तो इसे भी आप शुभ सम‍झिए। माना जाता है कि ऐसा दिखने पर आने वाले दिनों में आपको कोई बड़ा लाभ या अच्‍छी खबर मिल सकती है।

अगर आप मकड़ी को अपनी धुन में जाल बुनते हुए देखें तो यह भी अच्‍छाई की ओर इशारा करता है। ऐसा होने पर आपको अपने ऑफिस में सफलता मिल सकती है। वहां आपकी प्रशंसा हो सकती है। ऐसा सपने में भी देखना शुभ माना जाता है।

मकड़ी अगर कहीं आपको काट लेती है तो ये स्‍वास्‍थ्‍य की दृष्टि से भी शुभ नहीं है और ज्‍योतिष के आधार पर भी यह अशुभ संकेत है। माना जाता है कि ऐसा होने पर आपके किसी रिश्‍तेदार से आपके संबंध खराब हो सकते हैं।

अगर आपको कहीं बहुत सारी मकड़‍ियां दिख जाएं तो आपको सचेत हो जाने की आवश्‍यकता है। ऐसा होना इस बात का संकेत है कि कोई आपके खिलाफ साजिश कर रहा है।

29 अगस्त लगातार 16 दिन का ये उपाय लक्ष्मी होगी आपकी तिजोरी में

हिंदू धर्म के शास्त्रों में लिखा है कि अगर मां लक्ष्मी की पूजा सच्चे मन और विधि-विधान के साथ की जाती है, तो वह उस व्यक्ति के ऊपर बहुत जल्द प्रसन्न होती है। इसलिए महालक्ष्मी व्रत के पूरे 16 दिन सभी के लिे बहुत ही फलदायक साबित हो सकते है। अगर इन दिनों का उपयोग ठीक ढंग से किया जाएं।

सोलह दिन तक मां लक्ष्मी की विधि विधान से पूजा-अर्चना करता है। उसे सात जन्मों तक अखण्ड लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। आप पर भी महालक्ष्मी की कृपा बनी रहे, इसके लिये सही पूजा-विधि जानना बहुत जरूरी है। जानिए इन दिनों में क्या उपाय अपनाएं जाएं जिससे आपकी हर इच्छा पूरी हो जाएगी।

देवी लक्ष्मी की इस रूप की पूजा करने से होती है अचानक धन की प्राप्ति !

kaise kare laxmi puja, kaise kare lakshmi puja, laxmi ki prapti kaise kare, lakshmi pooja for money, lakshmi pooja for diwali, lakshmi pooja vidhi, lakshmi puja vidhi

अधिकांश लोग अपार धन पाने की इच्छा रखते है परंतु काफी मेहनत के बाद भी उनका की परिणाम नही निकलता क्योंकि धन की इच्छा महालक्ष्मी की पूजा और कृपा के बिना नही हो सकती.

महालक्ष्मी के आठ रूप होते है सभी रूपो का अलग अलग महत्व बताया गया है.माँ लक्ष्मी जैसी जिसके मन में कामनाये होती है सभी को पूर्ण करती है. माँ लक्ष्मी की पूजा करने से पहले विष्णु भगवान् की भी पूजा करनी चाहिए शास्त्रो के अनुसार माँ लक्ष्मी का वास वही होता है जहां उनकीं पूजा से पहले विष्णु भगवान् की पूजा की जाती है क्योंकि लक्ष्मि जी विष्णु भगवान् की अर्धांग्नी है.

माँ लक्ष्मी के आठ रूप.
१. धन लक्ष्मी – माँ लक्ष्मी के इस रूप की अर्चना करने से अपार धन की प्राप्ति होती है.
२. यश लक्ष्मी – माँ लक्ष्मी की इस रूप की अर्चना करने से यश की प्राप्ति होती है .
३. आयु लक्ष्मी – माँ लक्ष्मी के इस रूप की साधना करने से दीर्घायु और स्वास्थ का वरदान मिलता है.
४. वाहन लक्ष्मी – माँ लक्ष्मी के इस रूप की उपासना करने से वाहन सुख प्राप्त होता है.
५. स्थिर लक्ष्मी – इस रूप में माँ लक्ष्मी की पूजा करने से धन धान्य सम्पदा हमेशा बनी रहती है.
६. गृह लक्ष्मी – इस रूप को पूजने से सर्वगुण संपन्न पत्नी की प्राप्ति होती है.
७. संतान लक्ष्मी – माँ लक्ष्मी के इस रूप की पूजा करने से संतान की प्राप्ति होती है.
८. भवन लक्ष्मी – यदि आपके पास अपना खुद का घर नहीं है तो आप माँ लक्ष्मि के इस रूप की पूजा करे. .

माँ लक्ष्मी की पूजा पूरे विधि विधान के साथ करने से आपको उसका फल अवश्य प्राप्त होगा.

शास्त्रो में कहा तो ये भी जाता है की किसी समय माँ लक्ष्मी मैले वस्त्र पहन कर अपना रूप बदलकर सभी के घर घर गयी थी परंतु सभी ने उन्हें भिछुक समझकर उन्हें घर से निकल दिया था परंतु अंत में वे एक बनिए के घर गयी और उस बनिए ने उन्हें यानि की माँ लक्ष्मी को पहचान लिया और उस बनिए ने माँ लक्ष्मी से अपने घर के अंदर आने को कहा और उनसे बोला की आप यहाँ पर रहो और में गंगा स्नान करने जा रहा हूँ परंतु जब तक मैं न आउ तब तक आप मेरे घर की रक्षा करना और तभी से कहा जाता हे की माँ लक्ष्मी का निवास अधिकतर बनियो के घर में जरूर मिलता हे…..