जिस दिन घर में सोने के साथ रख दी ये घर का सोना इतना बढ़ेगा की कम पड़ेगी अलमारी

हर धातु और रत्न का संबंध ग्रहों से होता है। ग्रहों की दशा को सही रखने के लिए लोग उस ग्रह से जुड़े रत्न और धातु को धारण भी करते है। इन्‍हें खरीदने से लेकर धारण करने तक एक निश्चित दिन भी होता है। अधिकतर धातु और रत्न को लेकर तो लोग काफी सतर्क रहते हैं, लेकिन जब बात सोने की आए तो उसके सिर्फ एक गहना तक ही मानते है, जबकि सोने को रखने का तरीका, पहनने का तरीका आदि सब कुछ हमारी जिंदगी को प्रभावित करता है।

ज्यादातर लोग सोने को श्रृंगार के लिए पहनते हैं और इस पर ध्यान नहीं देते है कि वो सोना उनकी जिदंगी को कितना प्रभावित करेगा। सोने को बाएं हाथ में पहनने से बचें। इस हाथ में सोना पहनने से जिंदगी में परेशानी आती है।

अधिकतर लोग सोने में इंवेस्ट करते हैं और खरीदकर तिजोरी में बंद कर देते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो तिजोरी को सिर्फ उत्तर दिशा में ही रखें।

सोने को हमेशा लाल और पीले कपड़े में ही बांधकर रखें और इसके साथ कुछ केसर भी रखें। इससे समृद्धि आती है।

कहीं से सोना पाना शुभ नहीं अशुभ होता है। इससे खर्च बढ़ता है।

हनुमान जी कभी नहीं छोड़ते उसका साथ जिसके पास हो ये दुश्मन तो क्या खुद मृत्यु भी डरेगी आपके पास आने से

जब व्यक्ति बहुत ज्यादा परेशान हो, किसी बड़ी बीमारी ने उसे घेर लिया हो अथवा पैसो से जुडी उसकी समस्या सुलझने का नाम ही ना ले रही हो तब ऐसे में व्यक्ति भगवान के शरण में जाता है.

दोस्तों पुराणों में वर्णित है की हनुमान जी कलयुग में भी अमर रहेंगे और पृथ्वी पर लोगो के दुःख दूर करेंगे. इसलिए दोस्तों कलयुग में हनुमान जी की पूजा बहुत अधिक प्रभावशाली है क्योकि वे कलयुग में पांच जागृत देवताओ में से एक है.

कलयुग में अगर आप चाहते है की हनुमान जी सदैव आपके साथ रहे तो इसके लिए सबसे जरुरी चीज है हनुमान कवच. एक पौराणिक कथा के अनुसार ‘हनुमान कवच’ को सच बताया जाता है. कहते हैं कि रावण से युद्ध करते समय स्वयं भगवान राम ने हनुमान कवच का पाठ किया था, जिसके कारण रावण उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचा सका.

दोस्तों यदि आप अपनी कोई भी समस्या से निजात पाने चाहते है तो आज हम आपके लिए लेकर आये है हनुमान जी का एक चमत्कारी रक्षा कवच यन्त्र लॉकेट जिसे गले में धारण करते ही आपको अपनी चिंताओं से शीघ्र मुक्ति मिलेगी.

वैसे तो आप यह पूजा किसी भी दिन कर सकते है पर मंगलवार का दिन इस पूजा के लिए सर्वोत्तम है. सबसे पहले आप अपने घर के मंदिर में गंगा जल का छिड़काव करे इसके पश्चात हनुमान जी की मूर्ति की ओर मुँह करके लाल आसन में बैठ जाए.

पूजा आरंभ करने से पहले हनुमान जी के प्रभु श्रीराम का आशीर्वाद अवश्य लें। हनुमान जी का पंचमुखी लॉकेट भी आपको मूर्ति के साइड में रख देना है. अब एक घी और एक सरसो के तेल का दीपक जलाये तथा धुप अगरबत्ती करे. हाथ में थोड़े से चावल और फूल लेकर हनुमान जी का ध्यान करे. अब सिंदूर में चमेली का तेल मिलाकर हनुमान जी के उस लॉकेट में लपेट ले.

अब सच्चे मन से बताए जा रहे मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करें – “ॐ श्री हनुमते नम:”

इसके पश्चात आपको 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करना है. जब पाठ पूरा हो जाए तो आपको हनुमान जी को एक बनारसी पान अर्पित करना है. पूजन के पश्चात आप हनुमान चालीसा यंत्र लॉकेट को गंगा जल से धो कर अपने गले में धारण कर ले. शीघ्र ही आपकी हर समस्या समाप्त होने लगेगी और आप आपने आप में एक बदलाव का अहसास करने लगेंगे.

आप हनुमान लॉकेट चैन सहित आर्डर कर अपने घर मंगवा सकते है..

हनुमान रक्षा कवच

चाहे कर्ज की हो कितनी बड़ी रकम इस पौधे से आपका कर्ज शीघ्र होगा माफ़

दोस्तों कई बार कर्ज लेने के बाद उसे लौटाना व्यक्ति को भारी पड़ता है और उसकी पूरी जिंदगी कर्ज चुकाते-चुकाते खत्म हो जाती है। शास्त्रों और पुरानी मान्यताओं के अनुसार कर्ज लेने व देने संबंधी कुछ आसान से उपाय है । इन उपाय को करने से आपका कर्ज, ऋण या उधार तेजी से सिर से उतर जाएगा।

दोस्तों रोली, चावल, फूल, धूप, दीप आदि से पीली कौड़ी और हर सिंगार की जड़ की पूजा कर उसे धारण कर लें, धारण न करना चाहें तो जेब में भी रख सकते हैं। कर्ज से मुक्ति के लिए यह उपाय भी कारगर सिद्ध होता है।

कमलगट्टे को पीसकर उसमें देशी घी से बनी सफेद बर्फियां मिलाकर इसकी 21 आहूतियां दें। कहा जाता है कि कितना भी बड़ा कर्ज क्यों ना हो, ये उपाए करने से कर्ज उतर जाता है।
सबसे पहले कमल के फूल की पत्तियां लें। अब इन पर मक्खन व मिश्री लगाएं। अब 48 लौंग व 6 कपूर की माता को आहूति दें। मान्यता है कि ऐसा करने से जल्द ही कर्ज का बोझ कम होने लगता है।

दोस्तों किसी भी शुभ दिन पर एक लाल कपड़ा लें, इसमें पांच गुलाब के फूल, चांदी का टुकड़ा और गुड़ रखकर 21 बार गायत्री मंत्र का पाठ करें और पानी में बहा दें। ऐसा करने से आपको कर्ज से मुक्ति मिलेगी।

हनुमान जी की पूजा में गलती से भी न छू ले इसे पूजा का फल तो नष्ट होता है साथ ही हनुमान जी होते है गुस्सा

कलियुग में भगवान शिव की ही भांति हनुमानजी की पूजा भी तुरंत असर दिखाती है। चाहे आप कहीं भी हो, किसी भी परिस्थिति में हो, हनुमानजी को याद करते ही वो दौड़े चले आते हैं। परन्तु क्या आप जानते हैं कि कुछ स्थितियां ऐसी भी होती हैं जब भूल से भी हनुमानजी की पूजा नहीं करनी चाहिए।

 

(1) हनुमानजी की पूजा में सबसे पहली बात यही ध्यान रखने की है कि स्त्रियों को कभी भी हनुमानजी की पूजा नहीं करनी चाहिए। इसका कारण यह है कि हनुमानजी सीता को माता मानते हैं तथा विश्व की समस्त नारियों में वह माता सीता के ही प्रतिरूप को देखते हैं अतः वे समस्त स्त्री जाति को स्वयं नमन करते हैं। इसी कारण से स्त्रियों के लिए उनकी पूजा निषिद्ध की गई है। यदि स्त्रियां उनकी पूजा करना ही चाहती है तो वे हनुमानजी को पुत्र मानकर (जैसे बालकृष्ण की सेवा की जाती है) उनकी सेवा कर सकती हैं और उन्हें प्रसाद अर्पित कर सकती हैं।

(2) काले वस्त्र पहन कर कभी भी हनुमानजी की आराधना नहीं करनी चाहिए। उनकी पूजा के लिए लाल, पीले वस्त्रों का प्रयोग करना चाहिए। अन्यथा हनुमानजी की पूजा का नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और अनिष्ट हो सकता है।

(3) अगर आपने मांस या मदिरा का सेवन किया हुआ है तो भूल कर भी हनुमानजी की सेवा न करें, न ही उनके मंदिर में प्रवेश करें। हनुमानजी शुद्ध सात्विक विचार प्रधान देवता हैं अतः वे मांस, मदिरा का सेवन कर सेवा करने वाले की पूजा स्वीकार नहीं करते।

(4) कभी भी घर अथवा मंदिर में हनुमानजी की खंडित मूर्ति की पूजा नहीं करनी चाहिए। इसे शास्त्रों में अशुभ माना गया है तथा ऐसी मूर्ति की पूजा करने से व्यक्ति का सौभाग्य समाप्त होता है।

(5) हनुमानजी की पूजा में साफ-सफाई तथा पवित्रता का विशेष ध्यान रखें। स्मरण रहें कि पवित्रता तथा साफ-सफाई केवल तन से ही नहीं होनी चाहिए वरन मन, मस्तिष्क में भी विचारों की पवित्रता होनी चाहिए। सच्चे मन और श्रद्धा से की गई पूजा से ही हनुमानजी की कृपा प्राप्त होती है।

मंगलवार की शाम पत्नी जरूर करे ये छोटा सा काम पति के लिए खुल जायेंगे धन आने के सारे रास्ते

मंगलवार का दिन हनुमान जी का माना जाता है. और यह इसलिए भी ख़ास दिन होता है क्योकि इस दिन की गई पूजा जरूर अपना फल दिखती है. शास्त्रों में भी इस दिन की महत्वता बताई गई है और यह भी बतलाया गया है की हनुमान जी को एक बार माता सीता ने आशीर्वाद दिया था की हनुमान जी कलयुग में भी अजर अमर रहेंगे और जो भी भक्त सच्ची श्रद्धा भक्ति से मात्र हनुमान जी का स्मरण भी कर लेगा तो उसके दुःख तुरंत दूर हो जाएंगे.

दोस्तों आज भी हनुमान जी अजर अमर है तथा मंगलवार के दिन की गई उनकी पूजा भक्तो को शीघ्र फल देती है इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे अचूक उपाय लेकर आये है जिनसे हनुमान जी शीघ्र प्रसन्न होते है. इन उपायों को करने से भक्त की पुकार बजरंग बलि बहुत शीघ्र सुनते है और उनकी हर मुराद पूरी कर देते है.

मंगलवार की शाम यदि व्यक्ति हनुमान चलीसा का पाठ कर, उन्हें बूंदी का प्रसाद चढ़ता है तथा बाकि बच्चे प्रसाद को गरीब बच्चो को बाटता है तो इससे व्यक्ति को किसी भी प्रकार भय नहीं रहता है, बजरंगबली स्वयं उसके साथ होते है.

यदि कुछ दिनों से आप बहुत ज्यादा परेशान है हर समय कोई न कोई टेंशन रहती है तो शाम के समय हनुमान जी के चरणों में फिटकरी रख आये. हर प्रकार की टेंशन से आपको शीघ्र मुक्ति मिलेगी इसके साथ ही इससे बुरे सपने भी नहीं आते है.

यदि आपकी कोई दिल की मनोकामना है जो आप बहुत समय से चाह रहे है की पूरी हो जाए तो आप मंगलवा के दिन किसी भी समय हनुमान मंदिर जाए तथा हनुमान जी के मस्तक का सिंदूर अपने दाए अंगूठे में ले ले अब माता सीता की प्रतिमा के चरणों पर यह सिंदूर लगा दे. और अपने दोनों हाथ जोड़कर सच्चे दिल से अपनी मनोकामना उन्हें बोले आपकी मनोकामना पूरी हो जयेगी.

मंगलवार की शाम पत्नी पांच दीपक अपने घर में किसी भी जगह रखे परन्तु ध्यान रहे की जो दीपक को लो हो वह उत्तर दिशा की तरफ हो. उत्तर की दिशा माता लक्ष्मी और कुबेर देव की दिशा माना जाता है. अब दीपक के बचे तेल से अपने पति के शरीर में मालिश करे. इस उपाय से स्त्री के पति के लिए धन के सभी मार्ग खुल जाते है.

जो भी मनुष्य करता है गलती से भी ये 4 काम महादेव शिव का क्रोध बरसता है उस पर

दोस्तों कई बार कर्ज लेने के बाद उसे लौटाना व्यक्ति को भारी पड़ता है और उसकी पूरी जिंदगी कर्ज चुकाते-चुकाते खत्म हो जाती है। शास्त्रों और पुरानी मान्यताओं के अनुसार कर्ज लेने व देने संबंधी कुछ आसान से उपाय है । इन उपाय को करने से आपका कर्ज, ऋण या उधार तेजी से सिर से उतर जाएगा।

दोस्तों रोली, चावल, फूल, धूप, दीप आदि से पीली कौड़ी और हर सिंगार की जड़ की पूजा कर उसे धारण कर लें, धारण न करना चाहें तो जेब में भी रख सकते हैं। कर्ज से मुक्ति के लिए यह उपाय भी कारगर सिद्ध होता है।

कमलगट्टे को पीसकर उसमें देशी घी से बनी सफेद बर्फियां मिलाकर इसकी 21 आहूतियां दें। कहा जाता है कि कितना भी बड़ा कर्ज क्यों ना हो, ये उपाए करने से कर्ज उतर जाता है।
सबसे पहले कमल के फूल की पत्तियां लें। अब इन पर मक्खन व मिश्री लगाएं। अब 48 लौंग व 6 कपूर की माता को आहूति दें। मान्यता है कि ऐसा करने से जल्द ही कर्ज का बोझ कम होने लगता है।

दोस्तों किसी भी शुभ दिन पर एक लाल कपड़ा लें, इसमें पांच गुलाब के फूल, चांदी का टुकड़ा और गुड़ रखकर 21 बार गायत्री मंत्र का पाठ करें और पानी में बहा दें। ऐसा करने से आपको कर्ज से मुक्ति मिलेगी।

खुद भगवान भी करते है इस दिव्य माला को धारण गले में पहनने के तुरंत 24 घंटे बाद देखे असर

दोस्तों हम सब एक हसी खुसी जिंदगी जीना चाहते है परन्तु इन सब के लिए धन यानी की पैसा एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है. और हम सभी इसे प्राप्त करने के काफी मेहनत करते है. अगर आपके पास धन है तो सभी लोग आपकी इज्जत करते है, आपके घर वालो के साथ ही साथ आपके रश्तेदारो में सभी जगह आपका नाम उच्चा हो जाता है.

पैसा पास हो तो हर खुशिया आपके पास खुद चल कर आती है. प्यार से लेकर हर ख़ुशी आप आसानी से प्राप्त कर लेते हो वही धन ना होने पर वही रिस्तेदार पहचानने से इंकार कर देते है. जीवन में बहुत ज्यादा परेशानिया आपको झेलनी पड़ती है. अतः दोस्तों आज हम आपको एक ऐसे देविक वस्तु के बारे में बताने जा रहे है जो आपकी धन से जुडी समस्या के साथ आपकी सारी परेशानियों को समाप्त कर देगा. दोस्तों शास्त्रों में ऐसा बताया गया है की इस दिव्य वस्तु को स्वयं भगवान श्री राम भी धारण किया करते थे . तो आइये जानते है इसके बारे में.

दोस्तों व्यक्ति के जीवन में परेशानी का मुख्य कारण ज्योतिष शास्त्र के अनुसार उनके कुंडली में ग्रहो की अशुभ दशा को बतलाया गया है. जब व्यक्ति के कुंडली में अशुभ ग्रहो की स्थिति होती है तो उन्हें अनेक समस्याओ को समाना करना पड़ता है जैसे घर के खर्चो का अधिक बढ़ जाना, घर के किसी व्यक्ति का अचानक बीमार पड़ना, व्यापार आदि का न चलना, बच्चे का पढ़ाई में मन न लगना तथा नौकरी आदि में तरक्की न होना आदि.

दोस्तों कुंडली में सबसे ज्यादा अस्थायी ग्रह कहा गया है मंगल. मंगल ग्रह को शांत एवं अनुकूल बनाने का सबसे अचूक एवं बहुत जल्दी असर करने वाला तरीका हमारे ज्योतिष शास्त्र में लाल चन्दन माला को बताया है. लाल चंदन माला की विशेषता यह है की यह आपके कुंडली में कमजोर ग्रह और इससे समन्धित आ रही समस्या को शीघ्र दूर करता है साथ ही व्यक्ति के भाग्य को प्रबल बनाता है और उसके लिए धन आने के सभी मार्ग खोल देता है.

दोस्तों देवी महापुराण में यह भी उल्लेख मिलता है की यदि 11 शुक्रवार सुबह के समय निम्न मन्त्र का जाप आपने कर लिए तो जिंदगी भर आपको कभी पैसो की कमी का समाना नहीं करना पड़ेगा.

सर्वाबाधाविनिर्मुक्तो धनधान्यसुतान्वित:।
मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशय:

यदि आप प्रत्येक सुबह लाल चन्दन माला पहन एक बार भी इस बताये गए मन्त्र का जाप करते है तो आपको शत्रु, बुरी ऊर्जा, आकाल मृत्यु आदि का कोई भय नहीं रहता है, लाल चन्दन माला इन सभी से आपकी रक्षा करती है. लाल चंदन माला पहन आप कोई भी जरूरी कार्य, परीक्षा, या नौकरी के इंटरव्यू आदि में आसानी से सफलता प्राप्त कर सकते है.

दोस्तों लाल चंदन माला जिस चंदन की लकड़ी से बनी होती है वह आसाम के जंगली क्षेत्रों में पाये जाते हैं यह लकड़ी भारी होती है जो पानी में डूब जाती है . चन्दन का गुण शीतल है जो हर प्रकार से शीतलता प्रदान करता है। अतः यह माला धारण करने से आपका मन शांत और तनाव मुक्त रहता है. इसके साथ ही यह माला कई रोगों को शान्त करता है जैसे- तृषा, थकान, रक्त विकार, दस्त, सिर दर्द, वात पित्त, कफ, कृमि और वमन आदि। दोस्तों आपकी सुविधा के लिए हमने लाल चन्दन माला का लिंक निचे दिया है यदि आप इसे खरीदना चाहते है तो उस लिंक में जाकर आप यह घर मंगा सकते है.

हमारे द्वारा प्राप्त‍ की गई लाल चंदन की माला को मंगल और मां दुर्गा के मंत्रों –द्वारा अभिमंत्रित कर पूरी विधिपूर्वक पूजन कर आपके पास भेजा जाएगा जिससे जल्द ही आपके सारे कष्ट दूर होंगें।

लाल चंदन की माला

जिस घर के आस पास होता है इस चिड़िया का घोसला वह घर हमेसा डूबा रहता है कर्ज और गरीबी में

वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में कुछ ऐसी चीज़ें होती हैं जो घर वालों पर नकारात्मक असर डालती हैं, जिन्हें हम अक्सर अनदेखा कर देते हैं । ये ऐसी चीज़े हैं जो परिवार के सदस्यों के लिए नुकसान और परेशानी लाती हैं। कुछ ऐसी चीजें हैं जिन्हें घर में देखते ही वहां से हटा दें अन्यथा कभी भी धन और सुख आपके घर नहीं आयेगा । तो चलिए जानते हैं वो कौन सी चीज़े हैं जिन्हें घर में नहीं रखना चाहिए

कुछ ऐसी चीज़े होती है जिन्हें आप घर में देखते ही हटा देना चाहिए l घर में कबूतरों का घोंसला बनाना अशुभ संकेत देता है । अगर आपके घर में भी कही कबूतर अपना घोंसला बना रहे हैं तो उसे तुरंत हटा दें l कहते हैं की इससे कोई बड़ा संकट आता है इसलिए इसे तुरंत हटा दें। घर में टूटी फूटी चीज़ें भी नहीं रखनी चाहिए, कहते हैं की इनसे घर में नकारात्मकता बढ़ती है l

नल से पानी टपकते रहने से बरकत नहीं होती l घर की छत पर कबाड़ और बेकार का सामान इकट्ठा न करें। ऐसी और भी चीज़े हैं जो घर में नहीं होनी चाहिए वो सब आप नीचे दी गयी वीडियो में देख सकते हैं l

घर के मंदिर के पास भी ना रखदे ये 2 चीज़ वरना घर और परिवार में आता है भयंकर संकट

भारत देश में धर्म को लेकर बहुत आस्था हैं और धर्म से संबन्धित जुड़े वस्तुओ का भी हमारे जीवन में बहुत महत्व हैं। धर्म में आस्था रखने वाले हर घर में मंदिर होता हैं, शायद ही कोई ऐसा हिंदू परिवार हो जिनके घर में मंदिर ना हो। सुबह की शुरुआत घर में अगर पूजा-पाठ से हो तो पूरा दिन अच्छा निकलता है। ज्योतिष मानते हैं कि घर में मंदिर होने से तमाम तरह के दुख खत्म हो जाते हैं। अगर घर में मंदिर नहीं है तो आपको एक मंदिर स्थापित करना चाहिए। इससे घर में शांति और भगवान की कृपा बनी रहेगी।

माना जाता हैं कि मंदिर की मौजूदगी घर में सुख, शांति और समृद्धि लेकर आती है। जिस घर में मंदिर होता है, वहां सकारात्‍मक ऊर्जा का वास होता है और दु:ख व गरीबी दूर रहती है | इसी वजह हर घर में मंदिर का प्रमुख स्‍थान होता है। ऐसे में घर के मंदिर में कुछ विशेष सावधानियां रखना जरूरी हैं, ताकि सभी कार्य शुभ ढंग से हो सके। आज हम आपको ऐसे 10 बातों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें आप घर में मंदिर स्थापित करते वक्त ध्यान रखें

(1) मंदिर में कभी भी विषम संख्या में गणेश जी की मूर्ती स्थापित न करें,जैसे एक, तीन या पांच ये अशुभ माना जाता है| दो मूर्तियों का एक साथ रखना शुभ माना गया है। इन्हें स्थापित करते वक्त ध्यान दें कि गणेश जी का चेहरा हमेशा घर के मुख्य दरवाजे की तरफ हो| क्योंकि हर शुभ काम करने से पहले गणेश जी पूजा की जाती हैं।

(2) अंगूठे से बड़े आकार का शिवलिंग ना रखें, हमेशा एक छोटा शिवलिंग रखें, इससे अधिक संख्या में न रखें।

(3) मंदिर में हमेशा बैठे हुए हनुमान जी की मूर्ति रखें| बजरंग बली रुद्र (शिव) के ही अवतार हैं, इसीलिए इनकी भी शिवलिंग की ही तरह एक मूर्ति रखें, और ध्यान रखें की कभी भी अपने बेडरूम में हनुमान जी की फोटो या मूर्ति ना रखें।

(4) राधा-कृष्ण जी की मूर्ति को मंदिर में एक साथ रखें| इन्हें आप मंदिर के अलावा अपने कमरों में भी रख सकते हैं, क्योंकि इनकी पूजा एक प्रेमी जोड़े के रूप में की जाती हैं इसलिए आप अपने कमरे में इनकी मूर्ति या फोटो भी रख सकते हैं।

(5) दुर्गा माँ की मूर्ति विषम संख्या खासकर तीन में ना रखें| हमेशा इससे कम ही रखें, क्योंकि इससे दोष पड़ता हैं, अर्थात आप दुर्गा माँ की दो फोटो या मूर्ति रखें।

(6) पूजा करते वक्त आप इस बात का जरूर ध्यान रखना चाहिए की आप कभी भी टूटे चावल ना चढ़ाएं, बेहतर होगा हल्दी में भीगे हुए चावलों को ही चढ़ाएं, क्योंकि यह शुभ होता हैं।

(7) कभी भी पूजा में टूटे दीपक का इस्तेमाल ना करें और मंदिर को हमेशा उत्तर-पूर्व दिशा में रखें। हमेशा नये दीपक का इस्तेमाल करें जिससे की उस नए दीपक के समान आप के जीवन में भी हमेशा ही एक नए सुबह की शुरुआत हो।

(8) अपने मृत परिजनों या पूर्वजों को मंदिर में कभी भी स्थापित ना करें| ऐसा करना अशुभ माना जाता है, अगर आपको अपने पूर्वजो से खासा लगाव हैं तो इनकी तस्वीरें आप भगवान के बराबर नही रख कर उनके नीचे रखें।

(9) भैरव जी की तस्वीर मंदिर में ना रखें| क्योंकि इनकी साधना तंत्र-मंत्र द्वारा की जाती है, ऐसे ही शनि देव की मूर्ति मंदिर में नहीं रखी जाती है।

(10) हमेशा देवी-देवताओं की सौम्य रूप वाली तस्वीरें रखें, रौद्र रूपों को घर के मंदिर में ना रखें| सौम्य रूप वाली तस्वीरों को देखने से मन प्रसन्न रहता हैं।

अर्थात आप इन सावधानियों को ध्यान रख कर ही अपने घर में मंदिर की स्थापना करवाएँ, जिससे आपके घर में सुख-समृद्धि बने रहें और आपका मन-चित हमेशा प्रसन्न रहें, क्योंकि धार्मिक कार्य करने से या पूजा करने से मन को सुख और शांति का अनुभव मिलता हैं और मंदिर ही घर का ऐसा परिसर होता हैं जहां परिवार के सदस्य इकठ्ठा होते हैं और एक साथ पूजा करते हैं।

तुलसी की पूजा करते समय करे ये 1 काम मुँह मांगी इच्छा करता है तुरंत पूरी

हिंदू धर्म में हर पेड़-पौधे को लेकर अलग-अलग मान्यता और इनकी पूजा भी की जाती है। जैसी पीपल और बबूल के पेड़ की पूजा की जाती है वैसे ही हर हिंदू के घर में तुलसी की पूजा की जाती है। शस्त्रों में कहा गया है कि घर में तुलसी का पौधा अवश्य रूप से होना चाहिए।

सभी धार्मिक-पौराणिक और ग्रंथ-शास्त्रों में तुलसी को पवित्र, पूजनीय, शुद्ध और देवी स्वरूप माना गया है। इसीलिए तुलसी की पूजा अवश्य करनी चाहिए, लेकिन आज हम आपको आज ऐसे दो मंत्र बताने जा रहे हैं जिसे तुलसी पूजा करते समय करने से आपको काभी लाभ मिलेगा साथ ही आपके सारे कष्ट भी दूर हो जाएंगे और घर में होगी धन की वर्षा।

तुलसी पूजन करने से पहले इसके जड़ को दाएं हाथ पर पीले कपड़े में लपेटकर बांध लें। पूजन करते समय किसी तुलसी मंत्र का जप करेंगे तो श्रेष्ठ रहेगा। यह एक तांत्रिक उपाय है और इसे करने पर आपको धन संबंधी कार्यों में भी विशेष सफलता प्राप्त होगी।

मंत्र

वृंदा वृंदावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी। पुष्पसारा नंदनीय तुलसी कृष्ण जीवनी।।
एतभामांष्टक चैव स्त्रोतं नामर्थं संयुतम। य: पठेत तां च सम्पूज्य सौश्रमेघ फलंलमेता।।