देवउठनी एकादशी बना धन योग 11 रुपए रख दे यहां चारो तरफ से आएगा पैसा ही पैसा

दोस्तों आज यानी की सोमवार को साल की सबसे शुभ और फलदायी एकादशी है जिसे देवउठनी एकादशी या देवोत्थान एकादशी के नाम से भी जाना जाता है. आज भगवान विष्णु चार महीने की नींद के बाद जगेंगे. इस तिथि से ही सारे शुभ काम जैसे, विवाह, मुंडन और अन्य मांगलिक कार्य होने शुरू हो जाते हैं. देवउठनी एकादशी का व्रत करने से एक हजार अश्वमेध यज्ञ करने जितना फल प्राप्त होता है. आज ही के दिन शलिग्राम से तुलसी विवाह भी किया जाता है.

देवउठनी एकादशी के दिन से शादियों का शुभारंभ हो जाता है. सबसे पहले तुलसी मां की पूजा होती है. देवउठनी एकादशी के दिन धूमधाम से तुलसी विवाह का आयोजन होता है. तुलसी जी को विष्णु प्रिया भी कहा जाता है, इसलिए देव जब उठते हैं तो हरिवल्लभा तुलसी की प्रार्थना ही सुनते हैं. देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी जी का विवाह शालिग्राम से की जाती है.

सबसे पहले एकादशी के दिन व्रत रखने से सर्वप्रथम आपको एक 10 का एंव 1रुपए को सिक्का लेना होगा। आपको बता दें कि आप इस बात का आवश्य ध्यान रखें कि इस उपाय को करने के लिए सिर्फ 10 एंव 1 रुपए के सिक्के का ही इस्तेमाल करें। उसमें कोई नोट का चलन आपने आप ही ना चलाएं।

जब आप पूजा करें तो आपको माता लक्ष्मी और विष्णु भगवान दोनों के एक ऐसी चित्र मूर्ति से ही पूजा करें जहां दोनों ठीक ढंग से एक साथ विराजमान हो सकें। फिर आपको सिक्कों को लेकर अपने पूजा स्थल पर भी बैठना होगा जहां पर माता लक्ष्मी एंव विष्णु भगवान की अपने मूर्ति को रखा है इसके बाद आपको ध्यान रहें कि आपको 21 बार ”ॐ नम: भगवते वासुदेवाय ” नाम का जाप करना होगा।

यह जाप करने के बाद आपको एक लाल रंग की पोटली में उन 11 रुपए को बांध कर अपने दाहिने हाथ पर रखकर इच्छाएं बोलनी है अपनी इच्छांए ही बोले कोई दुख दर्द नहीं बोले पोटली को किसी ऐसे जगह पर रखें जहां आप अपने कीमती समान को रखते हैं।

इस मूल्यवान चीज को आप अपनी तिजोरी में अगली एकादशी तक रखें। फिर एकादशी में उस पोटली को खोलकर उन 11 रुपए से कुछ खरीदकर लोगों को खिला दें। पैसो की कृपा आप पर जरूर बनी रहेगी माता लक्ष्मी को आपके घर में हमेशा रहेगी।

नवरात्री की नवमी में पीपल के पत्ते पर चुपचाप ये 1 शब्द लिख रखे यहां गाडी बंगला पैसा सब होगा पास

नवरात्रि के आखिरी दो दिन अष्टमी और नवमी मनाई जाती है। नवरात्र के आठवें दिन मां महागौरी और नौवे दिन सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है अष्टमी और नवमी को मां की पूजा और हवन आदि का विशेष महत्व होता है। ऐसा करने से सालभर घर में सुख-शांति और समृद्धि बनी रहती है। इस दिन किए कुछ उपाय भी आपको आने वाले समय धनवान बना सकते हैं।

आइए जानते हैं कुछ उपाय

अष्टमी और नवमी पूजा के दिन आप जिन कन्यायों के भोजन करा रहे हैं। उन्हें उपहार में विद्या की वस्तु जैसे पेन, पुस्तक, किताब आदि जरूर दें। ऐसा करने से आपके घर में सुख-शांति का वास होगा और धन-धान्य की कमी नहीं होगी।

नवरात्र में अष्टमी और नवमी के दिन से ही आप श्री सूक्त का पाठ शुरू कर दें। कहते हैं कि ऐसा करने से घर में आर्थिक संकट कभी नहीं होता है।

कन्या पूजन के दिन 11 गरीब कन्याओं को भोजन कराना और उन्हें उनकी जरूरत की चीज दान करने से घर में हमेशा लक्ष्मी और सुख शांति का वास होता है।

अष्टमी नवमी के दिन पूजा के दौरान लाल रंग के कपड़े में 11 कौड़ियां रख लें और उसे काले धागे से बांध लें। फिर दोनों कपड़ों पर लाल रंग की रोली से स्वास्तिक का निशान बनाकर एक कपड़े को पूजा स्थान के पास और दूसरे को अपनी अलमीरा में रख दें।

अष्टमी व नवमी के दिन पूजा से पहले घी के 9 दीपक जलाएं। इन दीयों को स्टील या पीतल की थाली में रख दें और अपने आप बुझने दें। माना जाता है कि ऐसा करने से घर में लक्ष्मी का वास होता है और घर में धन-धान्य की कमी नहीं होती है।

नवरात्री महाष्टमी के दिन यह रखे 1 रूपये का सिक्का सोचने से पहले होगी हर इच्छा पूरी

नवरात्र के पांचवे दिन माँ के इस धागे को 2 गांठ बांध पहने हाथ में माँ बिन मांगे ही आपकी हर मनोकामना

शनिवार की सुबह माता रानी स्वयं दे रही है इस 1 राशि के चौखट पर दस्तक अब करोड़पति होने से कोई नहीं रोक

नवरात्री के किसी भी दिन इन 3 में से मिल कोई भी 1 संकेत तो सफल हो चुकी है पूजा माता आ चुकी है आपके घर

पुरानी से पुरानी कब्ज को जड़ से खत्म कर देगा यह नुस्खा

मांस से 25 गुना ज्यादा शक्तिशाली है ये सस्ती चीज, इसे खाने से शरीर बन जायेगा शक्तिशाली

9 अक्टूबर सर्व पितृ अमावस्या इस जगह जला दे 1 दिया आपकी 7 पुस्ते भी हो जाएँगी करोड़पति

नवरात्र में कलश स्थापना के समय कलश में डाल दे ये 1 चीज़ सालोसाल आपके घर में आता रहेगा पैसा