इस जड़ी बूटी को केवल मुंह में रखने से ही 5 बड़ी बीमारी हो जाती है जड़ से खत्म

दोस्तों भारतीय व्यंजनों में बड़ी इलायची का इस्तेमाल प्रमुखता से होता रहा है। मसालेदार व्यंजनों में स्वाद और सुगंध बढ़ाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है। पर कम ही लोगों को यह पता होगा कि बड़ी इलायची में कई औषधीय गुण भी पाए जाते हैं। इलायची दो प्रकार की होते हैं एक हरी इलायची और दूसरी भूरे रंग की इलायची। आपको बता दें कि यह दोनों इलायची के गुणों में पर्याप्त भिन्नता भी होती है। बड़ी इलायची में कुछ खास किस्म के पोषक तत्व होते हैं, जो छोटी इलायची में नहीं होते। बड़ी इलायची में फाइबर और तेल भी होता है जो कई तरह की बीमारियों को दूर रखता है मेरी मदद करता है।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

नियमित रूप से बड़ी इलायची के दाने का सेवन अगर आप करते हैं, तो यह आपका स्वास्थ्य बेहतर बनाएगा। यह एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन सी और पोटेशियम कार्बोनेट से भरपूर होती है। यह सभी तत्व आपके शरीर से क्षारयुक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। बड़ी इलायची की एक खूबी यह भी है कि यह आपके त्वचा की बहुत अच्छी देखभाल करने में मदद करती है। तो चलिए विस्तार से जानते हैं इसके फायदों के बारे में।

1. बड़ी इलायची सांस लेने संबंधित बीमारियों को दूर रखने में मददगार होती है। अगर आपको अस्थमा फेफड़े में कुंजन जैसी समस्याएं हैं तो बड़ी इलायची का सेवन करना आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा। सर्दी खांसी में इसका इस्तेमाल करना अच्छा रहेगा।

2. विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए भी बड़ी इलायची का इस्तेमाल करना फायदेमंद रहता है। हमारे शरीर में कई ऐसे विषाक्त पदार्थ बनते हैं जिनका बाहर निकलना बहुत जरूरी होता है। बड़ी इलायची इन विषाक्त पदार्थों को दूर निकालने का काम करती है।

3. अगर आपके मुंह से दुर्गंध आती है तो बड़ी इलायची चबाना एक अच्छा उपाय है। इसके अलावा मुंह के घाव को ठीक करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।

सावन के किसी भी दिन सिर्फ गाय को खिला दे इसे दुश्मन तो क्या खुद मृत्यु भी नहीं छू पायेगी आपको

दोस्तों, जैसा कि आप जानतें हो कि इस समय भगवान भोलेनाथ का पवित्र महिना सावन चल रहा है। सावन महिने की शुरूआत 28 जुलाई से हुई थी। इस पवित्र महिना का अंतिम दिन रक्षाबंधन यानी की 26 अगस्त को समाप्त होगा। सावन मास भगवान शिव का बहुत पसंदीदा महीना है। जो लोग पूरी श्रृद्धा से भगवान भोले की पूजा करते है। उनकी हर ईच्छा भोले जल्द ही पूरी कर देता है। भगवान भोलेनाथ सभी देवताओं में भोले है। इसलिए शिव जी को भोलेनाथ कहा जाता है। शिवजी की थोड़ी से पूजा से वो भक्तों की मनोकामना पूर्ण कर देते है। आज हम आपको इस पोस्ट के ​जरिए ये बताने जा रहे है की किस प्रकार आप इस महीने में शिवजी की पूजा करके धन प्राप्ति में आ रही बाधाओं से निजात पा सकते है। तो आइए नजर डालिए उन दो उपायों पर…

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

शिवजी को प्रसन्न करने के ये है वो उपाय

आप बहुत पैसे कमाते हो, लेकिन फिर भी पैसा आपके पास नहीं रूकता, तो आपको सावन के महिने में प्रात:काल जल्दी उठकर भगवान भोलेनाथ के वाहन नंदी यानी कि बैल को हरा चारा खिलाना चाहिए और अगर घर के पास या कहीं पर बैल दिखाई ना दे तो आप गाय को भी हरा चारा खिला सकते हो और चारा खिलाते समय आपको भगवान भोले के नाम का मन में जाप करना होगा। सावन मास में किए गए इस काम से भगवान भोले खुश होगे और आपकी ईच्छा जल्द ही पूरी करेंगे।

सावन मास में आप मछलियों को आटा या कुछ भी खाना डालकर भगवान शिव को प्रसन्न कर सकते है। आप सुबह जल्दी उठकर किसी तालाब या किसी ऐसी जगह पर जाए जहां मछलियां हो। फिर आप उन मछलियों को आटे से बनी गोलियां खिलाए। लेकिन वो आटे की बनी गोलियां डालते वक्त आपको भगवान शिव का ध्यान भी करना होगा। ऐसा करने से आप शिवजी की कृपा के पात्र बन सकते है और जल्द ही आपको धन में आ रही परेशानियों से छुटकारा मिल जाएगा।

सावन की बड़ी नाग पंचमी जरूर करे ये काम आपकी 7 पुस्ते भी होंगी करोड़पति//naag panchami 2018

दोस्तों,धनवान बनने की चाहत हर कोई को होती है.इसके लिए लोग कड़ी मेहनत भी करते हैं.कई बार लोग बाल-बच्चों को छोड़कर पैसे कमाने के लिए परदेश चले जाते हैं.फिर भी पैसों की तंगी बनी रहती है.काफी लोग दरिद्रता झेलते-झेलते परेशान हो जाते हैं.हरेक इंसान पैसों की तंगी को दूर भागना चाहता है लेकिन उनकी किस्मत साथ नही देती है.

दोस्तों,आज हम ऐसे चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं.जिसे आप नागपंचमी के दिन नहाने के पानी में मिलाकर नहाते हैं.तो आपको भाग्य का साथ मिल सकता है.जिंदगी बदल सकती है.

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

तो चलिए जानते हैं उस चीज के बारे में-

1 .चन्दन-नागपंचमी से एक दिन पहले किसी कटोरी में पानी लेकर एक चन्दन के टुकड़े भिगोकर रख दें.सुबह उस पानी को किसी को कुछ बिना बताये नहाने के पानी में मिलाकर नहा लें.इससे आपकी हर मनोकामनाएं पूरी हो सकती है.

2 .कपूर-पूजा- पाठ में इस्तेमाल होने वाला कपूर आपके भाग्य बदलने में भरपूर मदद कर सकती है.इसके लिए नहाने के पानी में चुटकी भर कपूर मिलाकर नहाने से दरिद्रता दूर होती है.साथ ही इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होने के कारन शरीर में किसी तरह का इंफेक्शन होने से बचाता है.

3 .काला तिल-नहाने के पानी में नागपंचमी के दिन चुपचाप थोडा सा काला तिल मिलकर नाहा लें.इससे दरिद्रता दूर होकर पैसों की तंगी दूर होगी.और पैसों की कभी कमी नही होगी.

15 अगस्त नागपंचमी 2 शब्द का यह मंत्र बोल दे सोते समय कालसर्प दोष से तुरंत मुक्त//nag panchami 2018

दोस्तों श्रावण मास की शुक्‍ल पक्ष की पंचमी को पूरे उत्‍तर भारत में नागपंचमी का पर्व 15 अगस्त 2018 को है।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस बार नागपंचमी के पर्व स्वतंत्रता दिवस भी है, यही कारण है कि यह विशेष दिन पर बनने वाला योग सुख-समृद्धि और शांति उपाय की शुभ घड़ी लेकर आ रहा है

38 साल के बाद दोबारा 15 अगस्त आजादी के दिन नागपंचमी का त्योहार मनाया जाएगा। इस बार नागपंचमी को हस्त नक्षत्र, साध्य योग और चंद्रमा के कन्या राशि में रहते मनाई जाएगी। बुधवार 15 अगस्त को हस्त नक्षत्र का होना सर्वार्थसिद्धि योग बनाएगा। कालसर्प दोष के निवारण की पूजा करने का यह दिन खास रहेगा।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

ऐसे दूर करें कालसर्प दोष

अगर किसी की कुंडली में कालसर्प दोष है तो नागपंचमी के दिन पूजा करने से कालसर्प दोष दूर हो जाता है। कालसर्प दोष को दूर करने के लिए यह दिन बहुत विशेष माना जाता है। इस दिन नागों की पूजा और ऊं नम: शिवाय का जप करना फलदायी होता है। इसके अलावा इस दिन पर रुद्राभिषेक करने से भी जातक की कुंडली से कालसर्प दोष दूर हो जाता है।

सावन खत्म होने से पहले ही चुपचाप शिवलिंग पर चढ़ा दे यह चीज़ जिंदगी भर नहीं होगी धन की कमी//sawan

भगवान शिव शंकर बहुत भोले हैं, इसीलिए हम उन्हें भोलेभंडारी कहते है , यदि कोई भक्त सच्ची श्रद्धा से उन्हें सिर्फ एक लोटा पानी भी अर्पित करे तो भी वे प्रसन्न हो जाते हैं। भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए कुछ छोटे और अचूक उपायों के बारे शिवपुराण में भी लिखा है, ये उपाय इतने सरल हैं कि इन्हें बड़ी ही आसानी से किया जा सकता है। हर समस्या के समाधान के लिए शिवपुराण में एक अलग उपाय बताया गया है तो आइये दोस्तों जानते है इन ख़ास और चमत्कारी उपाय के बारे में —

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

सावन के माह में रोज 21 बिल्वपत्रों पर चंदन से ॐ नम: शिवाय लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाएं, इससे आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी ।

सावन के माह में शिवलिंग पर केशर मिला दुध चढाने से विवाह कार्य में आ रही बाधा दूर होती है।

सावन में गरीबों को भोजन कराएं, इससे आपके घर में कभी अन्न की कमी नहीं होगी तथा पितरों की आत्मा को शांति मिलेगी।

सावन में रोज सुबह जल्दी उठकर स्नान के बाद शिव मंदिर में भगवान शिव का जल से अभिषेक कर उन्हें काले तिल अर्पण करें तत्पश्चात मन ही मन में ॐ नम: शिवाय मंत्र का जप करें। इससे मन को शांति मिलेगी।

नाग पंचमी के दिन इस मन्त्र को बोलने मात्र से मन की हर मुराद तुरंत होती है पूरी

सावन के पवित्र महीने में नाग पंचमी का विशेष महत्व है। इस बार नाग पंचमी 15 अगस्त को मनाई जायेगी। इस दिन महिलाएं अपने भाई और परिवार की खुशियों के लिए पूजा करती है। वेदों में नाग या सांप का एक बहुत ही खास महत्व है और उन्हें दिव्य माना जाता है। इस दिन नाग देवता की पूजा की जाती है और उन्हें दूध का अर्पण किया जाता है।

नाग पूजा का महत्व –

भगवान शिव की गर्दन में विराजमान सांप वासुकी डर का प्रतिनिधित्व करता है। भगवान शिव हर तरह के भय के स्वामी है। नागपंचमी के दिन वासुकी की पूजा करके, आप कालसर्प दोष जैसे सभी दोषों से छुटकारा पा सकते है।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

सांप वास्तव में भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश के संरक्षक हैं। भगवान विष्णु स्वयं शेषनाग पर विश्राम करते है, भगवान शिव हमेशा अपनी गर्दन के चारों ओर वासुकी सांप रखतेहै। दूसरी मान्यता यह भी है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने कालिया नाग का मर्दन किया था।

इन वजहों से नागपंचमी के दिन पूजा करने से आपके सभी डर दूर होते है और आपको सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। इस दिन नाग पूजा करने से आपको निम्नलिखित लाभ होते है –

इस दिन नाग पूजा करने से आपको अच्छा स्वास्थ्य, धन, सफलता और सुख-समृद्धि मिलती है।

आपके जीवन में शांति आती है और हर प्रकार का डर दूर होता है।

नाग पंचमी के दिन नाग पूजा करने से काल सर्प दोष और वास्तु दोष दूर होता है।

आपको नाग देवता का आशीर्वाद मिलता है और हर मनोकामना पूरी होती है।

सुबह पूजा करते ही तुरंत बोलदे यह 2 शब्द गाड़ी ,बंगला पैसा सब कुछ होगा आपके पास

आजहम आपको बताएंगे कि पूजा करते समय कौन से दो शब्द बोलने से भगवान आपकी मनोकामनाएं पूरी करेंगे और भगवान का आशीर्वाद हमेशा आप पर बना रहेगा। हमारी भारतीय संस्कृति में हम सभी भगवान को बहुत ही मानते हैं और उनकी पूजा अर्चना भी करते हैं चाहे हम किसी भी धर्म या संप्रदाय के क्यो ना हो। मनुष्य के जीवन में सुख और दुःख आता जाता रहता है, इसलिए मनुष्य को कभी भी निराश नहीं होना चाहिए।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

हम जब भी भगवान के सामने जातें हैं तो कुछ ना कुछ जरूर मांगते हैं कि भगवान मुझे ये सब दे दो, मुझे खुब सारा पैसा चाहिए या फिर कुछ और मांगते रहते हैं, लेकिन हमें ऐसा नहीं करना चाहिए बल्कि हमें भगवान की पूजा अर्चना करते समय हमारा पुरा ध्यान भगवान की आराधना पर होना चाहिए और बस यही प्राथना करनी चाहिए कि भगवान आपका आशीर्वाद हमपर हमेशा बना रहे। क्योंकि जब भगवान का आशीर्वाद हमारे उपर बना रहेगा तो हमारे सभी दुखों का निवारण हो जाएगा और हमें जो चाहिए वो भी मिल जाएगा। हमें हमेशा भगवान को खुश रखना चाहिए पूजा अर्चना करके, अच्छे कर्म करके, दुसरो की मदद करने से ऐसा करने से भगवान खुश होते हैं और उनकी कृपा हमेशा हमारे उपर बनी रहती है और हमारी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है।

15 अगस्त नागपंचमी महा संयोग इन 4 राशियों की चमक जाएगी किस्मत//15 august 2018 rashifal

श्रावण मास की शुक्‍ल पक्ष की पंचमी को पूरे उत्‍तर भारत में नागपंचमी का पर्व मनाया जाता है।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस बार 15 अगस्त 2018 को नागपंचमी के पर्व पड़ रहा है, इस दिन स्वतंत्रता दिवस भी है, यही कारण है कि यह विशेष दिन पर बनने वाला योग सुख-समृद्धि और शांति उपाय की शुभ घड़ी लेकर आ रहा है। इस नाग पंचमी ये 4 राशियाँ भाग्यशाली रहने वाली है।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

तुला व कर्क राशि : नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा आपका दिन शांत एवं खुशहाल होगा। प्रतियोगिता के क्षेत्र में सफलता मिलेगी I नौकरी में तरक्‍की के योग हैं। राजनैतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा। रुका हुए कार्य पूर्ण होंगे। वाहन चलाते समय सावधानी रखें अन्यथा दुर्घटना हो सकती है। इन राशि वाले लोगों के जीवन में खुशियां ही खुशियां आने वाली हैं। दांपत्य जीवन के लिए अच्छा समय है। जीवन साथी के प्रति लगाव बढेगा।

कुंभ व सिंह राशि : आपका जीवनसाथी आपके हर कार्य में साथ देगा। आपकी आर्थिक परेशानियां दूर होंगी। आपकी यात्रा भी सफलतापूर्वक संपन्न होगी। आपके परिवार में चल रही गृह- क्लेश समाप्त होगा। सूर्य देव की कृपा से आपके रास्ते में आ रही रुकावट दूर होगी। शेयर बाजार से जुड़े लोगों के लिए ये समय काफी अच्छा है और आपको बड़ा मुनाफा भी हो सकता हैं। हीरा कारोबाराियों को विशेष सफलता मिल सकती हैं।

घर के दरवाजे के बाहर चुपचाप लगा दे इसे दुश्मन तो क्या खुद मृत्यु भी कुछ नहीं बिगाड़ पायेगी

नमस्कार दोस्तों हमारे चैनल में आपका हार्दिक स्वागत है. घर में धन का अभाव रहना तथा अक्सर परेशानियों का समाना करना इन सबका मुख्य कारण वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का मुख्य दरवाजा बताया गया है. दरअसल दोस्तों जब हम घर में दरवाजे से प्रवेश करते है तो हमारे साथ कई एनर्जी भी घर में आ जाती है. कुछ एर्नजी इतनी नेगेटिव होती है की जिससे हमे धन हानि तो होती है साथ ही यह हमारे घर में अनेक चिंताए एवं परेशानियाँ भी ले आती है.

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

दोस्तों इन निगेटिव एनर्जी से बचने के लिए वास्तु दोष के अनुसार हमे अपने घर की मुख्य दरवाजे पर वास्तु चिन्ह बनाने चाहिए. यह चिन्ह निगेटिव एनर्जी को दरवाजे में रोक कर घर में पॉजिटिव एनर्जी लाते है. परन्तु घर के दरवाजे में रोज वास्तु चिन्ह बनाना मुमकिन नहीं है इसलिए आपको अपने घर के दरवाजे पर ॐ स्वस्तिक त्रिशूल लगाना चाहिए.

ॐ स्वस्तिक त्रिशूल, त्रि शक्ति का संगम होता है तथा यह जिस घर के दरवाजे में लगा होता है वहा सदैव बरकत ही बरकत होती है. शास्त्रों के अनुसार स्वस्तिक का चिन्ह घर में आने वाली निगेटिव एनर्जी को समाप्त करता है, ॐ का चिन्ह काली शक्तियों, बुरी नजर तथा अकाल मृत्यु जैसी गंभीर परेशानियों को रोकता है वही त्रिशूल का चिन्ह व्यक्ति के विचार तथा कर्म में सदवभाव लेकर आता है.

नाग पंचमी की रात सोने से पहले बोल दे 2 अक्षर का मन्त्र पुस्ते भी होंगी पितृ दोष मुक्त

शास्त्रों में नागों को भी देव रूप माना गया है। जिसकी प्रकार देवताओं की पूजा होती है उसी प्रकार इनकी पूजा करने का नियम है। सभी देवताओं की तरह इनकी पूजा के लिए भी एक विशेष निर्धारित है।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करे

भविष्य पुराण के अनुसार जो व्यक्ति पूरे वर्ष चतुर्थी तिथि को व्रत रखकर पंचमी तिथि के दिन ब्राह्मणों को भोजन करवाता है उस पर अनंत, कर्कोटक, कुलिक, महापद्म जैसे दिव्य नाग प्रसन्न रहते हैं। ऐसे व्यक्ति के घर में किसी को भी सांप काटने का भय नहीं रहता है। सांप को धन का कारक भी माना गया है। जो लोग सर्प की पूजा करते हैं उनके घर में धन लक्ष्मी का वास होता है।

नाग पंचमी के दिन क्या करें
पुराण में बताया गया है कि अगर कोई व्यक्ति पूरे वर्ष नाग की पूजा नहीं कर पता है तो उसे श्रावण कृष्ण एवं शुक्लपंचमी जिसे नाग पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन नागों की पूजा करनी चाहिए। सांपों की प्रसन्नता के लिए गाय के गोबर से दरवाजे पर सांप की आकृति बनाएं। इसके बाद दूध, दही, दूर्वा, पुष्प, अक्षत, कुश एवं गुग्गुल से नागों की पूजा करें। नाग पूजन के बाद पांच ब्राह्मणों को भोजन करना चाहिए।

इस दिन खाने में नमक का प्रयोग नहीं करें। ‘ओम कुरु कुल्ले फट् स्वाहा’ मंत्र का 108 बार जप करें। संभव हो तो इस मंत्र का प्रतिदिन जप करना चाहिए। जिस घर में इस मंत्र का जप किया जाता है उस घर में सांप प्रवेश नहीं करता है।